Search & get (home delivered) HOT products @ Heavy discounts

Sunday, December 11, 2016

Happy Birthday- Dilip Kumar


Saturday, December 10, 2016

Narinama - Gender Justice Relay by SIKSHA


प्रणव सचदेवा बने सइको लवर

-प्रेमबाबू शर्मा

क्या आपको वर्ष 1993 में आई फिल्म ‘डर’ का अनूठा किरदार राहुल मेहरा याद है! अरे वही मानसिक रोगी लेकिन अद्भुत प्रेमी राहुल मेहरा का किरदार, जिसे पर्दे पर शाहरुख खान ने कुछ इस प्रकार जीवंत किया था कि खलनायक होकर भी वह नायक की भांति सराहा गया और जिसके द्वारा बोला गया ‘क..क..क..किरण’ डायलाॅग आज भी लोगों की जुबां पर चस्पां है। हालांकि, फिल्म में राहुल मेहरा आखिरकार मौत को हासिल होता है, लेकिन शाहरुख खान निभाया गया वह किरदार आज भी लोगों के जेहन में जिंदा है।

एक बार फिर वही किरदार फिर जीवंत हो उठा है, लेकिन किसी फिल्म में नहीं, बल्कि छोटे पर्दे पर। इस बार उसे निभाने वाला कलाकार शाहरुख खान भी नहीं है। यानी, माध्यम ही नहीं, बल्कि कलाकार भी बदल गया है। जी हां, जिंदगी चैनल पर प्रसारित हो रहे धारावाहिक ‘अगर तुम साथ हो’ में यह साइको लवर नजर आ रहा है, जिसे निभा रहे हैं टीवी के उभरते कलाकार प्रणव सचदेवा। खास बात यह है कि छोटे पर्दे पर शाहरुख द्वारा निभाए गए किरदार को जी रहे प्रणव खुद शाहरुख खान के बहुत बड़े प्रशंसक हैं। इस अनूठे सामंजस्य को लेकर भरपूर उत्साहित प्रणव कहते हैं, ‘जिंदगी चैनल पर आ रहे धारावाहिक ‘अगर तुम साथ हो’ में मेरा किरदार एक संपन्न परिवार के खूबसूरत युवक का है, जो आत्मकेंद्रित भी है, जो अपनी एकतरफा मोहब्बत को लेकर कुछ ज्यादा ही पजेसिव है और हर हाल में उसे हासिल करना चाहता है, चाहे इसके लिए कुछ भी क्यों न करना पड़े।’ प्रणव कहते हैं, ‘राहुल मेहरा के किरदार को जो ऊंचाई शाहरुख खान ने पर्दे पर बख्शी है, उस ऊंचाई तक पहुंचना किसी भी कलाकार के लिए संभव नहीं है। यह मेरी खुशकिस्मती है कि मुझे उनके जैसा किरदार निभाने का अवसर मिला है, लेकिन मुझे मालूम है कि मैं किसी भी कीमत पर उस ऊंचाई को छूने में कामयाब नहीं सकता, लेकिन अपनी ओर से सौ फीसदी परफाॅर्म करने में मैं कोई भी कसर बाकी नहीं छोड़ रहा हूं।’

तो एक बार तैयार हो जाएं छोटे पर्दे पर प्रेम त्रिकोण पर आधारित फिल्म ‘डर’ जैसी कहानी और राहुल मेहरा जैसे साइको लवर की भूमिका को और करीब से देखने के लिए।

Torch Bearer of Dwarka Award & Launch of Dwarka Directory


Dr Jitendra Singh for promoting 'home-stay' tourism in Northeast

Union Minister of State (Independent Charge) for Development of North Eastern Region (DoNER), MoS PMO, Personnel, Public Grievances, Pensions, Atomic Energy and Space, Dr Jitendra Singh has called for promoting the concept of “home-stay” tourism in Northeast. Citing the success of such experiment in States of Sikkim and Meghalaya, he said, such exclusive and personalized approach does not only increase the tourist inflow, but also generates new avenues of livelihood for local youth and families.

Dr Jitendra Singh discussed the progress of work on Sikkim's Pakyong Airport with the Governor of Sikkim, Shri Shriniwas Patil here yesterday. Dr Jitendra Singh said Prime Minister Shri Narendra Modi had himself, during one of the monthly “Pragati” video interactions with State Chief Secretaries, expressed the need to expedite the project.

With Gangtok having a large flow of tourists from across the world, Dr Jitendra Singh said the presence of an airport will make the accessibility more convenient and increase the number of tourists manifold. Similarly, Shillong is currently connected through a commercial helicopter service from Guwahati, but with the upgradation of the local airport, there will be a boost to the tourist inflow.

Dr Jitendra Singh recalled that during his recent visits to some of the scenic spots in Meghalaya and other States, he came across lot of tourists from outside preferring an accommodation within the home premises of local households which not only gives them a feeling of homeliness and privacy but also familiarizes them with the local ambiance. At the same time, for the household family, this concept of ‘home stay” tourism becomes an added as well as substantial source of income.

Governor Shri Shriniwas Patil recalled Prime Minister Shri Narendra Modi’s visit to Sikkim when he had named three exclusive local flower plants as “NAMO”, “SARDAR” and “DEENDAYAL”. He said, the people of the State keenly look forward to Prime Minister visiting the State again. He also deeply appreciated the keen interest taken by Dr Jitendra Singh in following up all the issues and development projects related to the State of Sikkim.

Happy Birthday- Rati Agnihotri


Friday, December 9, 2016

Shiksha Bharati Public School organised Jhankar


Shiksha Bharati Public School, sector 7, Dwarka organised Jhankar - Inter school competition as an opportunity for the budding dancers and singers. It was held on 8th December 2016 and 9 December 2016 in school Auditorium. On the 1st da the chief guest was Ms Sapna Attavar - Bharatnatyam dancer and on the second day Ms. Rachna Sharma - assistant professor KIIT College Gurgaon, graced the occasion as a chief guest.


Lamp was lighted which was followed by Saraswati Vandana. The guests were given a warm welcome with a bouquet, memento and a stole by Principal madam. The chief guests' speeches were enthralling.


Solo Ghazal, Group Patriotic Song, Classical Group Dance, Group Folk Dance and Solo Western Dance competitions were held. Experienced and Competent judges adjudged the competitions both of the days. The schools which secured first second and third positions were given away mementos and certificates by the distinguished guests, judges, and Principal madam. The host school passed its positions wherever it secured.

Participation certificates were given away to all the participants. Total 17 schools participated with 377 participants. Rolling Trophy was won by code number 115 i.e - Sri Venkateshwara International School, Dwarka. Vote of thanks was proposed by Head Girl of the School. Honorable manager ma'am conveyed her blessings to all the participants. Refreshment was provided to all the accompanying teachers and participants. Everyone enjoy the competitions.

मैं बज़र बजाने वाला खुशमिजाज इंसान हूंः शान

-प्रेमबाबू शर्मा

एंड टीवी का नया शो ‘द वाॅयस इंडिया सीजन 2‘ 10 दिसंबर से दर्शको के बीच है। यह शो प्रत्येक शनिवार-रविवार रात 9 बजे प्रसारित होगा। शो के सभी कोच अपनी टीम के लिए प्रतिभागियों को चुनने और अपनी कुर्सी घुमाने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। हमेशा मुस्कुराते रहने वाले कोच शान से हमने शो के साथ उनके जुड़ाव को लेकर बातचीत की। 

दो सीजन में युवा प्रतिभाओं को मेंटर करने के बाद आप खुद में क्या बदलाव पाते हैं। द वाॅयस में सीखने का अनुभव काफी अद्भुत रहा। जब आप देशभर से आई अलग-अलग आवाजों को सुनते हैं तो आपको महसूस होता है कि संगीत में हमारा देश कितना समृद्ध है। जिस तरह से सारे प्रतिभागी अपनी दृढ़ महत्वाकांक्षा और समर्पण दिखाते हैं, वह सचमुच प्रेरित करने वाला है। उनके सफर का हिस्सा बनना और उनके हुनर को निखारना मेरे लिए खुशी की बात है।

आपके अनुसार प्रतिभागियों को अपने गायन में किन चीजों पर ध्यान देना चाहिए? 
चूंकि, द वाॅयस एकमात्र ऐसा सिंगिंग रिएलिटी शो है, जिसमें प्रतिभागियों का चयन केवल उनकी आवाज के दम पर होता है। इसलिए प्रतिभागियों को सिर्फ अपनी गायिकी पर ध्यान देना चाहिए, किसी और चीज पर नहीं। उन्हें किसी की नकल करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, बस अपने अनोखे अंदाज में परफाॅर्म करना चाहिए।

हमने देखा है कि शो में आप सबसे प्यारे कोच हैं। क्या आपको लगता है कि इससे प्रतिभागियों से जुड़ने में आपको मदद मिलती है?
मैं लोगों से जुड़ा हुआ व्यक्ति हूं और मुझे लोगों के बारे में जानकर अच्छा लगता है। मैं यह जानने की कोशिश करता हूं कि उनको निखारने के लिए क्या चीज काम करेगी। साथ ही मैं काफी शांत रहता हूं। चूंकि, मैं सिंगिंग का बहुत बड़ा दीवाना हूं, इसलिए जब लोग इसी तरह की दीवानगी दिखाते हैं तो मैं उनसे आसानी से जुड़ जाता हूं। कोच के रूप में टीम के सारे लोगों से मेरा प्यारभरा और दोस्ताना रवैया रहता है। मैं चाहता हूं वे सभी अच्छा करें। मैं उन्हें अपनी क्षमताओं के अनुसार अपना बेस्ट गाने का भरोसा दिलाना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि वे संगीत के अपने इस सफर के हर पल का आनंद उठायें।

गायन में अपने शुरुआती सालों के बारे में कुछ बताएं-आपका सफर कैसा रहा? कितना आसान या मुश्किल था? वो क्या चीज थी, जो आपको आगे बढ़ाती रही?
अगर शुरुआती दिनों की बात की जाए तो, कोच या मेंटर के रूप में, सचमुच मुझे कोई मार्गदर्शन नहीं मिला। हालांकि, मैं हमेशा से ही सीखने को लेकर उत्सुक रहा हूं और जल्दी सीख भी जाता था। इसलिए, मैं जाने-माने गायकों को सुनता और उनसे सीखता था। चूंकि, मुझे कोई प्रोफेशनल ट्रेनिंग नहीं मिली, मैंने खुद गायन की बारीरिकयों को सीखा। साथ ही अपनी गायिकी की खामियों पर काम किया। गाने को लेकर मेरा प्यार और मेरी दीवानगी मुझे आगे तक ले गई।

द वाॅयस (सीजन 2) के आने वाले सीजन में आपके साथ बेनी और सलीम जुड़ने वाले हैं, जिनके लिये यह काॅन्सेप्ट नया है। क्या आप और नीति शो में सीनियर होने के नाते मिलकर उन पर हल्ला बोलने वाले हैं?
ऐसा करने के बारे में सोचना मजेदार लग रहा है, लेकिन हमलोग मिलकर उन पर हल्का नहीं बोलने वाले हैं। सलीम और बेनी दोनों ही बड़े कमाल के हैं और मुझे उम्मीद है कि शो पर उन्हें अच्छा लगेगा। मुझे उनके साथ शूटिंग करके काफी मजा आ रहा है।

एक लाइन में बताएं, कि कोई प्रतिभा आपको कैसे प्रभावित कर सकती है, जिससे कि आप उनके लिए अपनी कुर्सी घुमाने को मजबूर हो जायें?
बज़र बजाने के लिए मुझ पर तीन चीजें काम करती हैं। सबसे पहले तो, मैं ऐसी आवाज सुनना चाहता हूं जिनमें थोड़ी ट्रेनिंग हो और सधी हुई हो। दूसरी चीज, मैं देखना चाहता हूं कि प्रतिभागी कितना सहज है और उसकी आवाज कितनी बेहतर है। तीसरी बात यह कि, मैं देखता हूं कि मेरी टीम में कौन-सी जगह बची है। क्या वह वेस्टर्न गायन है सूफी गायक है या फिर दूसरे तरह के गाने गाता है। मैं बज़र बजाने वाला एक खुशमिजाज इंसान हूं, इसलिए इस पल मुझे जो अच्छा लगता है मैं बज़र बजा देता हूं।

Happy Birthday- Sonia Gandhi


Happy Marraige Anniversary S.S. Dogra & Sunita


Thanks for your VISITs

 
How to Configure Numbered Page Navigation After installing, you might want to change these default settings: