Search latest news, events, activities, business...

Thursday, October 19, 2017

Happy Birthday- Sunny Deol


HAPPY DEEPAWALI to you & your family


"WISH U A VERY HAPPY DIWALI" 
Dwarka Parichay Team

Dear friends,

Wish U, Ur family & friends HAPPY DEEPAWALI

Subscribe to get latest news, events, business, entertainment etc. 

 Share events- celebrations (with photographs) in your society for publishing at Dwarka Parichay: e-mail: info@dwarkaparichay.com

Join DP at Facebook 

To support Dwarka Parichay, you are requested to forward this message to friends. 

Thanks


Dwarka Parichay Team


Wednesday, October 18, 2017

गजब है दीवाली....

नरेश सिंह नयाल

कहीं कतारें दीपों की 
झिलमिलाहट रोशनी की
शोर मौज मस्ती का
बधाइयाँ व पटाखों का

कौन कहां फुलझड़ियों जलाता है
हर इंसान अपनी हैसियत से
यहां दीपावली मनाता है

लक्ष्मी की पूजा अर्चना
साल भर भरा रहे
भंडार यह अपना
भाव यही ह्रदयों में होते हैं
अब तो दीपावली की बधाइयां भी
अंगुलियों में मिला करती हैं

सीने से लगा लेना
बड़ों का सिर पर हाथ रखकर
शिद्दत से आशीष देना
पूरी सल्तनत का सुख
सिमटकर उन वृद्ध हाथों का स्पर्श
बनकर मिल जाता था

चलो हम भी दीपावली को
कुछ खास बना देते हैं
जिस घर में प्रकाश लुकाछुप्पी मानो खेल रहा हो
उस घर को आशियाना कर आएं
आओ मिलकर जरा
हम ऐसी दीपावली मना आएं।

Happy Birthday- Om Puri


Tuesday, October 17, 2017

Anti Cracker Rally by JMIS students


‘ Instead of the crackers let your laughter be heard loud ‘ with this message , the JMIS students marched impressively to spread the message of a pollution free Diwali. A group of students from classes VI to VIII participated with their messages on placards. The anti cracker rally started with a pledge from the Principal to abide by the message of celebrating a Green Diwali. Slogans like “ na dhoom na dhamaka is baar no patakha” and “pollution free diwali, khushali hi khushali “ were the highlights of the rally. 

The rally was a great success , it covered the prominent areas and the residential complex of Dwarka. The residents and the people on the road appreciated the efforts. The slogans were delivered with great fervor and enthusiasm that it made a lasting impact on the passerbys and the residents of Dwarka.

दूसरे आयुर्वेद दिवस पर हर्षोल्लास से मनाई भगवान धन्वन्तरि की जयंती

आदर्श ग्रामीण समाज दिल्ली के तत्वावधान में आज उत्तर पश्चिमी दिल्ली के बरवाला गांव में समाज के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दयानंद वत्स की अध्यक्षता में दूसरे आयुर्वेद दिवस पर आरोग्य के देवता भगवान धनवंतरी की जयंती हर्षोल्लास से मनाई गई। श्री वत्स ने भगवान धनवंतरी के चित्र पर माल्यार्पण कर उनसे सभी भारतवासियों के आरोग्य की मंगल कामना की।
अपने संबोधन में श्री दयानंद वत्स ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज राजधानी के सरिता विहार में पहले अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान को राष्ट्र को समर्पित करने को आयुर्वेद के विकास, प्रचार और प्रसार के लिए मील का पत्थर बताते हुए उनका आभार जताया। श्री वत्स ने कहा कि समूचे विश्व में आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को तेजी से मान्यता मिली है। भारत में भी यह वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति के रुप में लोकप्रियता प्राप्त कर रही है। इसके लिए आयुर्वेद दवाओं की गुणवत्ता की जांच के लिए विशेष कडे मानक बनाए जाने की महती आवश्यकता है।

आयुर्वेद से ही आरोग्य आज समय की मांग है। प्रकृति प्रदत्त जडी बूटियों के अनुसंधान ओर शिक्षण को और अधिक बढावा देने की आज जरुरत है।

Golmaal Again is a complete family entertainer releasing on 20th Oct.,2017


(Photo & Report: S.S.Dogra)
New Delhi: 16th Oct.2017: The main star cast of Golmaal Again except Director Rohit Shetty interacted the media in Hotel Le Meridian. Golmaal Again is a complete family entertainer Hindi film releasing on 20th Oct.,2017. 

 Reliance Entertainment Presents, In Association with ManglMurti Films Golmaal Again is the fourth installment of director Rohit Shetty’s Golmaal franchise. The movie features a stellar star cast including of Ajay Devgn, Parineeti Chopra, Tabu, Tusshar, Arshad Warsi, Shreyas Talpade and Kunal Kemmu.

‘Golmaal Again’ is yet another fun filled ride about two gangs who are unable to stand each other since their childhood and how they repulse each other even after they grow up.

It is yet another hilarious adventure with its fair share of thrills that are sure to surprise the audience and fill their hearts with laughter and joy. It is a film that will surely make everyone laugh, cry and realize the importance of how beautiful life is.

सर्वोदय बाल विद्यालय प्रहलादपुर बांगर के छात्रों ने धनतेरस औऋ दीपावली पर कक्षाओं को सजाया


सर्वोदय बाल विद्यालय प्रहलाद पुर बांगर के छात्रों ने आज धनतेरस और दीपावली के उपलक्ष्य में अपनी- अपनी कक्षाओं को सजाया। शिक्षाविद् दयानंद वत्स के सान्निध्य में प्रधानाचार्य श्री वी. के शर्मा ने सर्वश्रेष्ठ साज सज्जा के लिए सभी छात्रों को अपनी शुभकामनाएं दीं ओर पटाखा मुक्त दीपावली मनाने को कहा।

Significance of Deepawali in Jainism


Dr.M.C. JainNATIONAL PRESIDENT
Rashtriya Digamber Jain Parishad


“दीपकं तद्यदन्येषामपि सम्यक्त्व दीपकम्”
आचार्य हेमचन्द्र कृत त्रिषष्ठीशलाकापुरुषचरित्रम् १।३।६१०

दीपक वह है जो दूसरों को सम्यक् दर्शन प्रदान करे।
(A lamp is that which illumines samyak darshana in others.)
Acharya Hemacandra in Trishashthishalakapurushacaritram 1.3.610

The word "Diwali" is a corruption of the Sanskrit word "Deepavali" (also transliterated as "Dipavali"). Deepa/dipa means "light of the dharma", and avali means "a continuous line". The more literal translation is "rows of clay lamps". Diwali is one of the most popular and colorful festivals in India. Better known as Deepavali or the festival of lights, Diwali is a nocturnal celebration embraced by Hindus, Sikhs, Buddhists and Jains across the country. It unifies every religion, every home, and every heart and India transcends into a land of myriad lamps.

In Hinduism, Diwali marks the return of Lord Rama to his kingdom of Ayodhya (अयोध्या ) after defeating (the demon king) Ravana,( रावण ) , the ruler of Lanka (लंका )in the epic Ramayana.( रामायण ). It also celebrates the slaying of the demon king Narakasura (नरकासुर ) by Lord Krishna. (कृष्णा ) . Both signify the victory of good over evil. In Jainism, Diwali marks the attainment of moksha (मोक्ष ) by Mahavira ( महावीर ) in 527 BC.. In Sikhism, Diwali commemorates the return of Guru Har Gobind Ji (गुरु हरगोविंद जी ) to Amritsar after freeing 52 Hindu kings imprisoned in Fort Gwalior by Emperor Jahangir (जहाँगीर ) ; the people lit candles and divas (दीप ) to celebrate his return.

Mythological significance of Diwali in Jainism
Diwali is originally stated in Jain books as the date of the nirvana of Lord Mahavira. The earliest use of the word Diwalior Dipavali appears in Harivamsha Puran ( हरवंश पुराण ) , a Holy Book of Jains , composed by Acharya Jinasena ( आचार्य जिन सेन ) , written in Shaka Samvat (शक -संवत ) 705. In Jainism, Diwali was first referred in Harivamsha Purana written by Acharya Jinasena as dipalika (splendour of lamps). In his words “the gods illuminated Pavagari by lamps to mark the occasion” Since that time, the people of Bharat ( भारत ) celebrate the famous festival of Dipalika to worship the Jinendra (i.e. Lord Mahavira) on the occasion of his nirvana ( निर्वाण ). 

कत्तिय-किण्हे चौदसिपच्चुसे सादिणामनक्खत्ते|
पवाए णयरिये एक्को विरेसरो सिद्धो ||

Diwali has a very special significance in Jainism, just like Buddha Purnima, the date of Buddha's Nirvana, is for Buddhists and Christmas is for Christians. Diwali in Jainism is the jubilation to commemorate the salvation or Moksha attained the founder and guru Lord.

Mahavira. On the religious occasion of Diwali on Oct. 15, 527 BCE, on Chaturdashi of Kartika in Pavapuri, Lord Mahavira received his enlightenment to spirituality. He could conquer his desires and was beyond humanity. On this auspicious day his life was transformed into a spiritual journey of self penance and sacrifice.Jain scriptures also mention that one of the ardent disciples of Mahavira, Gandhara Gautam Swami attained complete knowledge kevalgyana ( केवलज्ञान ) on this day thus making Diwali one of the most important Jain festivals. According to the Kalpasutra by Acharya Bhadrabahu, 3rd century BC, many gods were present, illuminating the darkness. The following night was pitch black without the light of the gods or the moon. To symbolically keep the light of their master's knowledge alive.

Deepavali was first mentioned in Jain books as the date of the nirvana of Lord Mahavira. In fact, the oldest reference to Diwali is a related word, dipalikaya or deepalikaya, which occurs in Harivamsha-Purana, written by Acharya Jinasena and composed in the Shaka Samvat era in the year 705.

ततस्तुः लोकः प्रतिवर्षमादरत् प्रसिद्धदीपलिकयात्र भारते |
समुद्यतः पूजयितुं जिनेश्वरं जिनेन्द्र-निर्वाण विभूति-भक्तिभाक् |२० |

Which means, the gods illuminated Pavanagari (पवागिरी ) by lamps to mark the occasion. Since that time, the people of Bharat celebrate the famous festival of "Dipalika" to worship the Jinendra (i.e. Lord Mahavira) on the occasion of his nirvana.

Rituals in the celebration:
Diwali to Jains, is the occasion to pay tribute to the ardent sacrifice of their Lord Mahavira. The Swetambara faction of Jains observes fasting during the three days of Diwali. The festival usually falls in the month of Kartik (October-November).The devotees sing and chant hymns in praise of their Lord . They recite phrases from the Uttaradhyayan Sutra (holy book of Jains) which contains the last preaching's of Lord Mahavira.

Unique way of celebration:
Jains as a religion gives more stress on austerity and simplicity. Unlike other religious practices in India, who celebrate Diwali with lots of fire crackers, noise, songs and dances, Jainism follows a different form of celebration altogether. To them, physical triumph and pomp are just worldly emotions of joy and gratification. So they practise penance during the period. The temples are decorated during this period and there is distribution of sweets among the devotees. Jains from India and all over the world visit Pavapuri, the home town of Mahavira.

“May this Dipavali illumine your soul with Samyak Darshana”

Wishing all of you a Very HAPPY DIWALI​

May each moment of the rest of your life be filled with equanimity and serenity
May you follow the path of spiritual bliss and may the splendor of your 
Soul always lights your path and lead the way.

Best wishes on Diwali and New Year.

Happy Dhanteras to all members & readers


Happy Birthday- Simi Garewal


Monday, October 16, 2017

कुपोषण और भूख मुक्त भारत के निर्माण हेत सभी देशवासियों से आगे आने का आहृवान: दयानंद वत्स

आदर्श ग्रामीण समाज के तत्वावधान में आज उत्तर पश्चिम दिल्ली के बरवाला गांव में विश्व खाद्य दिवस के अवसर पर समाज के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दयानंद वत्स की अध्यक्षता में भूख और कुपोषण मुक्त भारत विषयक एक सार्थक परिचर्चा का आयोजन किया गया। अपने संबोधन में श्री वत्स ने कहा कि आजादी के 70 सालों के बाद भी खाद्य सुरक्षा ओर भूख एवं कुपोषण मुक्त भारत की कल्पना आज भी एक दिवास्वप्न बनकर रह गयी है। खाद्य सूचकांक के आंकड़े भी भारत के लोगों के लिए सुखद नहीं हैं।

एक और देश के करोडों बच्चे कुपोषित हैं और शिशु मृत्यु दर बढने से स्थिति की भयावहता का अंदाजा सहज ही हो जाता है। उत्सवों के अवसरों पर हजारों टन भोजन भारत में भूखों के पेट की बजाय कूडे में चला जाता है। खाद्य पदार्थों की बरबादी पर हमें तनिक भी दुख नहीं होता। इसलिए इस विश्व खाद्य दिवस पर हमें भोजन की बरबादी रोकने के लिए राष्ट्र व्यापी जन जागरूकता अभियान चलाने की महती आवश्यकता है। श्री वत्स ने कुपोषण ओर भूख मुक्त भारत के निर्माण के लिए सभी देश वासियों से आगे आने का आहृवान किया है।

FIFA U-17 World Cup celebrated World Food Day with Feeding India


World Food Day is celebrated every year around the world on 16 October to promote worldwide awareness and action for those who suffer from hunger and the need to ensure food security and nutritious diets for all.

Minimising food waste being one of the sustainability initiatives of the FIFA U-17 World Cup India 2017, the Local Organising Committee (LOC) for the tournament has teamed up with Feeding India, the country’s largest youth-run, not-for-profit organisation with more than 7,500 volunteers in over 55 cities, which strives to alleviate the problem of hunger, malnutrition and food waste in India. Feeding India volunteers, called “Hunger Heroes”, are also part of the team of volunteers for the FIFA U-17 World Cup, and are helping to donate leftover food at all six tournament venues to shelter homes. The food is initially checked for its quality before being transported in special containers to beneficiaries in the homes.

On 16 October, to celebrate World Food Day, FIFA and the LOC organised a very special event for 70 girls at a Feeding India shelter home in Delhi. The kids were busy playing indoor games and drawing, completely unaware of the surprise waiting for them on the veranda, when all of a sudden, Kheleo, the highly popular Official Mascot for the tournament, walked in with some Hunger Heroes carrying delicious food. After the tasty morsels had been handed out, Kheleo unveiled the main surprise of the day by distributing footballs to the 70 girls.

The kids had no inkling of what was awaiting them. Palak Gupta, caretaker at the shelter home, said: “We have seen India playing in the FIFA U-17 World Cup matches on TV and it has got the kids really interested in football. I am sure they can’t wait to play the beautiful game with the balls they have received.”

In the short space of time since its foundation, Feeding India has served 9 million meals to children, women, senior citizens and disabled people, and has initiated World Food Week, a movement that aims to put a stop to the massive food waste in India and to use this excess nutritious high-quality food to fight hunger by feeding people in need.

Media Can Do Wonders in Students Life by S.S. Dogra - get this book


Click here to purchase @Amazon(Kindle edition also)

Books Are The Best Companions- Sandeep Marwah


“If you want to remain alert, young and knowledgeable then you must read as much as you can. Books are the best companions of Human being. I love books and they are part of my life,” said Sandeep Marwah while releasing the book of young writer Kevin titled “Dharmayoddha Kalki : The Avtar of Vishnu” at Oxford Book store at Connaught Place.

“I recommend every one to have a small library at home. You must spend little money out of your savings in building your own library. Books divide with you a vast experience of people and make you a wise man,” added Marwah congratulating Seema Saxena of Jashan Events for identifying such a talented writer Kevin.

Kevin Missal, Co-Founder and Co-Owner of Kalamos Literary Services, has written three more novels before and Dharmayoddha Kalki: The Avatar of Vishnu is his fourth sensational novel.

Happy Birthday- Hema Malani


Sunday, October 15, 2017

86वीं जयंती पर भारत के महान वैज्ञानिक स्वर्गीय डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम को श्रद्धा सुमन अर्पित

आदर्श ग्रामीण समाज, दि ऑर्ट ऑफ गिविंग फॉउंडेशन चेरिटेबल ट्रस्ट, सर्वेंट ऑफ हृयूमनिटी, नेशनल चाइल्ड एंड वूमन डवलपमेंट चेरिटेबल ट्रस्ट, नेशनल मीडिया नेटवर्क एवं अखिल भारतीय स्वतंत्र पत्रकार एवं लेखक संघ के संयुक्त तत्वावधान में आज संघ के उत्तर पश्चिमी दिल्ली के रोहिणी सेक्टर-36 स्थित मुख्यालय बरवाला में संघ के राष्ट्रीय महासचिव दयानंद वत्स की अध्यक्षता में पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम साहेब की 86वीं जयंती पूर्ण सादगी और श्रद्धा पूर्वक मनाई गई। श्री वत्स ने कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से श्री कलाम साहब के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर अपने संबोधन में श्री वत्स ने कहा कि कलाम साहब ने डीआरडीओ और इसरो में अपने कार्यकाल के दौरान भारत को मिसाइल तकनीक और अंतरिक्ष विकास के क्षेत्र में जो सफलता अर्जित की उससे भारत के तकनीकी कौशल का लोहा समूचे विश्व ने माना। भारत में उनके द्वारा शांति पूर्ण उद्देश्यों के लिए किए गए परमाणु परीक्षणों में उनकी प्रमुख भूमिका ने उन्हें भारत सहित विश्व पटल पर सबका चहेता बना दिया। बैलेस्टिक मिसाइल तकनीकी विकास के बाद वे मिसाइल मैन के नाम से प्रसिद्ध हुए। श्री वत्स ने कहा कि उनका एक ही सपना था कि भारत विजन 2020 तक विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में दुनिया का नेतृत्व करे। बच्चों से उन्हें खासा लगाव था ओर उन्होनें शिक्षण कार्य राष्ट्रपति बनने के बाद भी जारी रखा।

श्री वत्स ने कहा कि स्वर्गीय डॉ. कलाम सादगी की प्रतिमूर्ति थे। उनका व्यक्तित्व एवं कृतित्व प्रेरणादायी
है। वे भारत की युवा पीढी को विज्ञान ओर तकनीकी 86के क्षेत्र में विश्व में अग्रणी बनाने के लिए सदैव प्रोत्साहित करते रहते थे।

भारत रत्न ही नहीं मिसाइल मैन थे पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम

(अब्दुल कलाम जी की पुण्यतिथि को समर्पित विशेष लेख
(एस.एस.डोगरा)

“अगर आप सूर्य की तरह चमकना चाहते हो, तो पहले सूर्य की तरह जलना सीखो!” अब्दुल कलाम साहेब के ये बोल खुद्बुखुद उनके सफल एवं प्रभावशाली व्यक्तित्व का आईना हैं. वे सचमुच किसी सूर्य से कम नहीं थे जिनके शौर्य की चमक उनके द्वारा किए गए अनेक कार्यों में आज भी महसूस की जा सकती है. इन्ही खूबियों की वजह से ही अब्दुल कलाम साहेब ने भारतवर्ष का नाम बड़े गर्व से पुरे विश्व में रौशन कर डाला.

बाल्यावस्थाअब्दुल कलाम साहेब का असली नाम अबुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम था जो बाद में डॉक्टर ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम से ज्यादा प्रचलित हुआ. डॉ. अब्दुल कलाम साहेब का जन्म 15 अक्टूबर 1931, दक्षिण भारत के रामेश्वरम, तमिलनाडु राज्य में एक मुसलमान परिवार मैं हुआ। उनके पिता जैनुलअबिदीन एक नाविक थे और उनकी माता अशिअम्मा एक गृहणी थीं। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थे इसलिए उन्हें छोटी उम्र से ही काम करना पड़ा। अपने पिता की आर्थिक मदद के लिए बालक कलाम स्कूल के बाद समाचार पत्र वितरण का कार्य करते थे।

जिज्ञासु प्रवृतिहोनहार वीरवान के होत चीकने पात, इस कहावत को उन्होंने बचपन में ही आभास करा दिया था. अपने स्कूल के दिनों में कलाम पढाई-लिखाई में सामान्य होने के बावजूद बचपन से जिज्ञासु प्रवृति के थे तथा नयी चीज़ सीखने के लिए हमेशा तत्पर और तैयार रहते थे। उनके अन्दर सीखने की भूख थी और वो पढाई पर घंटो ध्यान देते थे। उन्होंने अपनी स्कूल की पढाई रामनाथपुरम स्च्वार्त्ज़ मैट्रिकुलेशन स्कूल से पूरी की और उसके बाद तिरूचिरापल्ली के सेंट जोसेफ्स कॉलेज में दाखिला लिया, जहाँ से उन्होंने सन 1954 में भौतिक विज्ञान में स्नातक किया। उसके बाद वर्ष 1955 में वो मद्रास चले गए जहाँ से उन्होंने एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की शिक्षा ग्रहण की। वर्ष 1960 में कलाम ने मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की पढाई पूरी की।

कैरियर की शुरुआत वैज्ञानिक के तौर पर
उन्होंने मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की पढाई पूरी करने के बाद, रक्षा अनुसन्धान और विकास संगठन (डीआरडीओ) में वैज्ञानिक के तौर पर भर्ती हो गए। कलाम ने अपने कैरियर की शुरुआत भारतीय सेना के लिए एक छोटे हेलीकाप्टर का डिजाईन बना कर किया। डीआरडीओ में कलाम को उनके काम से संतुष्टि नहीं मिल रही थी। कलाम साहेब भारत के प्रथम पंडित जवाहर लाल नेहरु द्वारा गठित ‘इंडियन नेशनल कमेटी फॉर स्पेस रिसर्च’ के सदस्य भी थे।

महान वैज्ञानिकों का संग एवं ऐतिहासिक उपलब्धियांइसी दौरान उन्हें प्रसिद्ध अंतरिक्ष वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के साथ कार्य करने का अवसर मिला। वर्ष 1969 में उनका स्थानांतरण भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में हुआ। यहाँ वो भारत के सॅटॅलाइट लांच व्हीकल परियोजना के निदेशक के तौर पर नियुक्त किये गए थे। इसी परियोजना की सफलता के परिणामस्वरूप भारत का प्रथम उपग्रह ‘रोहिणी’ पृथ्वी की कक्षा में वर्ष 1980 में स्थापित किया गया। इसरो में शामिल होना कलाम के कैरियर का सबसे अहम मोड़ था और जब उन्होंने सॅटॅलाइट लांच व्हीकल परियोजना पर कार्य आरम्भ किया तब उन्हें लगा जैसे वो वही कार्य कर रहे हैं जिसमे उनका मन लगता है।

1963-64 के दौरान उन्होंने अमेरिका के अन्तरिक्ष संगठन नासा की भी यात्रा की। परमाणु वैज्ञानिक राजा रमन्ना, जिनके देख-रेख में भारत ने पहला परमाणु परिक्षण किया, ने कलाम को वर्ष 1974 में पोखरण में परमाणु परिक्षण देखने के लिए भी बुलाया था। सत्तर और अस्सी के दशक में अपने कार्यों और सफलताओं से डॉ कलाम भारत में बहुत प्रसिद्द हो गए और देश के सबसे बड़े वैज्ञानिकों में उनका नाम गिना जाने लगा। उनकी ख्याति इतनी बढ़ गयी थी की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने अपने कैबिनेट के मंजूरी के बिना ही उन्हें कुछ गुप्त परियोजनाओं पर कार्य करने की अनुमति दी थी। इन्होंने 1974 में भारत द्वारा पहले मूल परमाणु परीक्षण के बाद से दूसरी बार 1998 में भारत के पोखरान-द्वितीय परमाणु परीक्षण में एक निर्णायक, संगठनात्मक, तकनीकी और राजनैतिक भूमिका निभाई।

मिसाइल मैन की पहचानभारत सरकार ने महत्वाकांक्षी ‘इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम’ का प्रारम्भ डॉ कलाम के देख-रेख में किया। वह इस परियोजना के मुख्य कार्यकारी थे। इस परियोजना ने देश को अग्नि और पृथ्वी जैसी मिसाइलें दी है। इन्होंने मुख्य रूप से एक वैज्ञानिक और विज्ञान के व्यवस्थापक के रूप में चार दशकों तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) संभाला व भारत के नागरिक अंतरिक्ष कार्यक्रम और सैन्य मिसाइल के विकास के प्रयासों में भी शामिल रहे। इन्हें बैलेस्टिक मिसाइल और प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी के विकास के कार्यों के लिए भारत में मिसाइल मैन के रूप में जाना जाने लगा।

जुलाई 1992 से लेकर दिसम्बर 1999 तक डॉ कलाम प्रधानमंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार और रक्षा अनुसन्धान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के सचिव थे। भारत ने अपना दूसरा परमाणु परिक्षण इसी दौरान किया था। उन्होंने इसमें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। आर. चिदंबरम के साथ डॉ कलाम इस परियोजना के समन्वयक थे। इस दौरान मिले मीडिया कवरेज ने उन्हें देश का सबसे बड़ा परमाणु वैज्ञानिक बना दिया। वर्ष 1998 में डॉ कलाम ने ह्रदय चिकित्सक सोमा राजू के साथ मिलकर एक कम कीमत का ‘कोरोनरी स्टेंट’ का विकास किया। इसे ‘कलाम-राजू स्टेंट’ का नाम दिया गया।

भारतवर्ष के प्रथम नागरिककलाम सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी व विपक्षी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस दोनों के समर्थन के साथ 2002 में भारत के राष्ट्रपति चुने गए। उन्होंने 25 जुलाई 2002 को भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। पांच वर्ष की अवधि की सेवा के बाद, वह शिक्षा, लेखन और सार्वजनिक सेवा के अपने नागरिक जीवन में लौट आए।

सर्वोच्च सम्मानअपने जीवनकाल में बहुआयामी उपलब्धियों की बदौलत इन्होंने भारतवर्ष के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न सहित निम्न प्रतिष्ठित पुरस्कार भी प्राप्त किये।

वर्ष - सम्मान - संगठन
2014 डॉक्टर ऑफ साइंस एडिनबर्ग विश्वविद्यालय , ब्रिटेन
2012 डॉक्टर ऑफ़ लॉ ( मानद ) साइमन फ्रेजर विश्वविद्यालय
2011 आईईईई मानद सदस्यता आईईईई
2010 डॉक्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग वाटरलू विश्वविद्यालय
2009 मानद डॉक्टरेट ऑकलैंड विश्वविद्यालय
2009 हूवर मेडल ASME फाउंडेशन, संयुक्त राज्य अमेरिका
2009 अंतर्राष्ट्रीय करमन वॉन विंग्स पुरस्कार कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान , संयुक्त राज्य अमेरिका
2008 डॉक्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग नानयांग प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय , सिंगापुर
2007 चार्ल्स द्वितीय पदक रॉयल सोसाइटी , ब्रिटेन
2007 साइंस की मानद डाक्टरेट वॉल्वर हैम्प्टन विश्वविद्यालय , ब्रिटेन
2000 रामानुजन पुरस्कार अल्वर्स रिसर्च सैंटर, चेन्नई
1998 वीर सावरकर पुरस्कार भारत सरकार
1997 राष्ट्रीय एकता के लिए इंदिरा गांधी पुरस्कार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
1997 भारत रत्न भारत सरकार
1994 विशिष्ट फेलो इंस्टिट्यूट ऑफ़ डायरेक्टर्स (भारत)
1990 पद्म विभूषण भारत सरकार
1981 पद्म भूषण भारत सरकार

सेवानिवृत उपरांत रचनात्मकता में मग्न
कलाम साहेब अपने आपको शिक्षाविद के रूप में ज्यादा सहज समझते थे. यही वजह रही कि राष्ट्रपति पद से सेवामुक्त होने के बाद डॉ कलाम शिक्षण, लेखन, मार्गदर्शन और शोध जैसे कार्यों में व्यस्त रहे और भारतीय प्रबंधन संस्थान, शिल्लोंग, भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद, भारतीय प्रबंधन संस्थान, इंदौर, जैसे संस्थानों से विजिटिंग प्रोफेसर के तौर पर जुड़े रहे। इसके अलावा वह भारतीय विज्ञान संस्थान बैंगलोर के फेलो, इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी, थिरुवनन्थपुरम, के चांसलर, अन्ना यूनिवर्सिटी, चेन्नई, में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के प्रोफेसर भी रहे। उन्होंने आई. आई. आई. टी. हैदराबाद, बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी और अन्ना यूनिवर्सिटी में सूचना प्रौद्योगिकी भी पढाया था।

कलाम हमेशा से देश के युवाओं और उनके भविष्य को बेहतर बनाने के बारे में बातें करते थे। इसी सम्बन्ध में उन्होंने देश के युवाओं के लिए“व्हाट कैन आई गिव’ पहल की शुरुआत भी की जिसका उद्देश्य भ्रष्टाचार का सफाया है। देश के युवाओं में उनकी लोकप्रियता को देखते हुए उन्हें 2 बार (2003 & 2004) ‘एम.टी.वी. यूथ आइकॉन ऑफ़ द इयर अवार्ड’ के लिए मनोनित भी किया गया था।वर्ष 2011 में प्रदर्शित हुई हिंदी फिल्म ‘आई ऍम कलाम’ उनके जीवन से प्रभावित है।

दूरदर्शी एवं प्रेरक व्यक्तित्व
शिक्षण के अलावा डॉ कलाम ने कई पुस्तकें भी लिखी जिनमे प्रमुख हैं – ‘इंडिया 2020: अ विज़न फॉर द न्यू मिलेनियम’, ‘विंग्स ऑफ़ फायर: ऐन ऑटोबायोग्राफी’, ‘इग्नाइटेड माइंडस: अनलीशिंग द पॉवर विदिन इंडिया’, ‘मिशन इंडिया’, ‘इंडोमिटेबल स्पिरिट’ आदि आज भी पाठक बड़े चाव से उन्हें पढ़कर प्रेरित होते हैं. वैसे भी कलाम साहेब एक दूरदर्शी एवं प्रेरक व्यक्तित्व वाले मधुरभाषी इन्सान थे. भले ही वे 27 जुलाई 2015 को भारतीय प्रबंधन संस्थान, शिल्लोंग, में अध्यापन कार्य के दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा ओर डॉ अब्दुल कलाम परलोक सिधार गए। लेकिन उनके देश-विदेशों के करोडो प्रशंसक उन्हें आज भी दिलो जान से चाहते हैं.

किसी ने सही ही कहा कि "सच्चे देशभक्त नेता, शिक्षक, साहित्यकार, फ़िल्मकार, कलाकार, खिलाड़ी व पत्रकार प्रतेयक समाज, देश व सभ्यता के प्रमुख आईना होते हैं। इन्ही के महत्वपूर्ण योगदान पर किसी भी देश का अतीत, वर्तमान व भविष्य निर्भर करता है। ये सदा अमर रहते हैं।" शायद उपरोक्त कथन अब्दुल कलाम साहेब पर बखूबी जचता है क्योंकि वे कई विधायों के योद्धा होने के बावजूद बड़े सरल, सहज, विनम्र एवं मिलनसार थे और सबसे बड़ी बात वे एक प्रेरक व्यक्तित्व की मालिक भी थे. इसीलिए वे आज भी आम-जनमानस में बेहद लोकप्रिय इन्सान के रूप में जाने जाते हैं. भारत रत्न ही नहीं मिसाइल मैन थे पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम साहेब-जो एक प्रेरक व्यक्तित्व के रूप में अनेक प्रशंसको के दिलों में आज भी अजर अमर हैं.

Saturday, October 14, 2017

Media Can Do Wonders in Students Life by S.S. Dogra



Click here to purchase @Amazon

Click here to purchase @Flipkart


Click here to purchase @Paytm


Click here to purchase @pblishing.com

Giraffe Heroes India invites nominations from all over India



The Giraffe Heroes India Program

A Giraffe Hero is a person who sticks his or her neck out on sustainable basis, for public good, at huge personal risk. Giraffe Heroes India Program is an off-shoot of non-profit Giraffe Heroes Project which was started in USA in 1984, by Ann Medlock. The aim of starting this Project was to find out unknown heroes of the society, commend them as Giraffes for sticking their necks out & get their stories told on radio, television & in print. Giraffe stories would tell the people that there was headway being made on the problems of the world, that there were individuals who had solutions & the courage to move into action. The stories would move people`s souls & get them moving on public problems that mattered to them.


A COPY OF THE LETTER FROM THE DIRECTOR-Giraffe Heroes India Program

February 2, 2004 was a very special day for me. On this day, I received a letter from Ann Medlock, the Founder of Giraffe Heroes Project which said:

`I am happy to tell you that you were chosen by our most recent jury to receive the enclosed Giraffe Commendation, joining over 900 people who have been honored as Giraffe Heroes since the Giraffe Project began in 1982.’ The letter stated that this was for sticking my neck out to fight corruption in civil government.

It was unbelievable! I had received the Red & White Bravery Award in 2002, but this Giraffe Commendation came at a difficult time and was a HUGE morale-booster! It was a matter of great honour, pride & privilege to be ONE of the distinguished family of Giraffes. My years of trodding on the lonely path, which was very rough & uneven at times, had finally brought me to the doors of a family consisting of brave, caring & committed people.

I was still in the local government of New Delhi, fighting a long legal battle with my own organization. I had filed a case in the High Court in 1993, for a look into the unethical & unfair practices followed by my seniors which had resulted, to my mind, in a huge misuse of public funds. They were encouraging, pampering & protecting unethical colleagues, at the same time that they were harassing & hounding me in every possible way. I was making a stand for professional values & ethics. My good record was changed to damaging assessments of my work, making it impossible for me to advance in my career.

I finally won the legal battle, arguing the case myself against the organization in which I had worked since 1969. In May of 2004 I was appointed the Chief Engineer[civil]-HEAD of my Department.

Why have I given my personal example? It’s about something Ann mentioned in her letter. She said, “the aim is to tell others about you so that they will follow your example.” And that is the aim of this new organization, Giraffe Heroes India. This new non-governmental organization will tell the stories of India’s heroes, so that people all over the country can be inspired to stand tall on public problems they see.

Being appointed DIRECTOR of the Giraffe Heroes India Programme, is a matter of great honour & privilege for me. But having said that, it brings with it huge responsibilities. I’ll be rallying supporters for the cause, calling for nominations, organizing a jury, enlisting media to tell the stories.

But, I am happy to tell you that there have already been very enthusiastic & positive responses & I am confident that Giraffe Heroes India will start kicking soon like the operations in Sierra Leone, Egypt, Nepal & the UK.

I welcome your ideas and support.

With best wishes to all & for Giraffe Heroes India

Vijay K. Saluja

New Delhi-India
saluvk@gmail.com


Appeal From the Director

Since 2004, we have tried to spread the word about this PROGRAM.But, the progress in the same has not been on planned lines due to number of reasons?

It is now decided to spur up our efforts. we need active assoiation & sustainable support of all persons from India.

As I ,live in Dwarka, I will be happy,if DWARAKAITES may send their suggestions/views, if any, on the matter, AT THE EARLIEST.

SO, PLEASE GET INVOLVED.

visit  https://www.giraffe.org/global/india 
for more details about criteria for nomination/Nomination Form

Dwarka Parichay has been our trusted & valuable Media Partner.

Vijay K. Saluja

Install useful Dwarka Parichay News app




View video @link: https://youtu.be/4r5dylY3OWE

Know all about Dwarka- The largest sub-city of Asia - Download app here

Friday, October 13, 2017

30वीं पुण्यतिथि पर हरफनमौला गायक किशोरकुमार को श्रद्धा सुमन अर्पित


अखिल भारतीय स्वतंत्र पत्रकार एवं लेखक संघ के तत्वावधान में आज संघ के मुख्यालय बरवाला में संघ के राष्ट्रीय महासचिव दयानंद वत्स की अध्यक्षता में हरफनमौला पार्श्वगायक स्वर्गीय किशोर कुमार की 30वीं पुण्यतिथि सादगी और श्रद्धा से मनाई गयी।

श्री वत्स ने किशोर कुमार के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। अपने संबोधन में श्री वत्स ने कहा कि किशोर दा बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी प्रतिभावान अभिनेता, निर्माता, निर्देशक, गायक, संगीतकार, गीतकार, कम्पोजर थे। उन्होंने आजीवन अपनी शर्तों पर काम किया और कभी भी किसी के दबाव में नहीं आए।

अंतरार्ष्ट्रीय शैक्षिक सम्मेल्लन में एस.एस. डोगरा की लिखी किताब “मीडिया कैन डू वंडर्स इन स्टूडेंट्स लाइफ” का विमोचन मलेशिया के उच्चायुक्त अब्दुल हामिद एवं पर्यटन मंत्री सतपाल ने किया


देहरादून: रे फाउंडेशन एवं लाइव टुडे टीवी चैनल के सयुंक्त प्रयासों से देहरादून स्थित होटल सॉलिटेयर में एक अंतरार्ष्ट्रीय उत्तराखंड शैक्षिक सम्मेल्लन एवं पुरुस्कार समारोह का भव्य आयोजन किया गया. जिसका उद्घाटन उत्तराखंड राज्य के शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय बतौर मुख्यातिथि, मलेशिया के उच्चायुक्त अब्दुल हामिद, इंटरनेशनल बिज़नस फेडरेशन के अध्यक्ष एम सी पुवन, रे फाउंडेशन के अध्यक्ष कौशल कुमार, लाइव टुडे के कार्यकारी संपादक एस. हनुमंथ राव-निदेशक कुश तिवारी, उत्तरांचल दीप समाचारपत्र के मार्केटिंग हेड नागेश दुबे ने विधिवत रूप से दीप प्रज्ज्वल करते हुए किया. अपने संबोधन में शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय तथा मलेशियन उच्चायुक्त अब्दुल हामिद ने भारत एवं मलेशिया के बीच शिक्षा के विकास में आपसी आदान प्रदान एवं नई संभावनाओं ने पर प्रकाश डाला तथा नवीनतम योजनाओं के माध्यम एक-दुसरे देशों को मजबूती प्रदान करने की इच्छा जताई. शैक्षिक सम्मेल्लन के महत्त्वपूर्ण सत्र में कई वक्ताओं ने नवीनतम शिक्षा शोध पर अपने अपने अनुभव एवं विचार साझा किए. 

इसी अंतरार्ष्ट्रीय शैक्षिक सम्मेल्लन के दौरान श्योर शॉट द्वारा अंग्रेजी भाषा में निर्मित लघु फिल्म लाइब्रेरी भी प्रदर्शित की गई जिसे सभागार में उपस्थित सैंकड़ों शिक्षाविद्दों ने सराहा. इसके बाद उत्तराखंड के ही पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज एवं मलेशिया के उच्चायुक्त अब्दुल हामिद ने शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए विभिन्न स्कूलों के प्रधानाचार्यों एवं संचालकों को पुरुस्कृत किया.

रे फाउंडेशन द्वारा विशेष रूप से आमंत्रित उत्तराखंड के राष्ट्रीय एवं अंतरार्ष्ट्रीय पारा खिलाडियों हरीश चौधरी, मनोज सरकार, अनुज सिंह, आशीष नेगी, शरद जोशी, चिराग बरेठा, निर्मला मेहता, उमा जोशी, प्रेमा, प्रशांत मेहता, संदीप अरोड़ा को भी सम्मानित किया गया. इसी अंतरार्ष्ट्रीय शैक्षिक सम्मेल्लन में दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक एस.एस.डोगरा द्वारा अंग्रेजी भाषा में लिखित “मीडिया कैन डू वंडर्स इन स्टूडेंट्स लाइफ” किताब का विमोचन उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज एवं मलेशिया के उच्चायुक्त अब्दुल हामिद ने विधिवत रूप से विमोचन किया. उक्त अंतरार्ष्ट्रीय उत्तराखंड शैक्षिक सम्मेल्लन एवं पुरुस्कार समारोह में उत्तराखंड राज्य के शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय, उत्तराखंड के ही पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज एवं मलेशिया के उच्चायुक्त अब्दुल हामिद सहित अनेक शैक्षिक हस्तियों ने शिरकत कर कार्यक्रम के आयोजन में चार चाँद लगा दिए.

मीडिया क्षेत्र में उज्जवल भविष्य बनाने में अवश्य सहायक साबित होगी एस.एस. डोगरा की लिखी किताब “मीडिया कैन डू वंडर्स इन स्टूडेंट्स लाइफ” 
जी हाँ, मीडिया को विद्यार्थी जीवन में ही सदुपयोग किया जाए तो अदभुत चमत्कार के साथ ही स्कूली एवं कॉलेज विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य बनाने में मील का पत्थर साबित हो सकता है . मीडिया, विद्यार्थी जीवन में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है जो किसी भी स्कूली/कॉलेज छात्र-छात्रा को परीक्षा में अच्छे अंक हासिल करने के अलावा सफल कैरियर बनाने एवं अच्छी नौकरी पाने एवं व्यवसाय स्थापित करने में काफी लाभकारी साबित हो सकता है.इस किताब के लेखक सुरेन्द्र सिंह डोगरा (एस. एस. डोगरा नाम से प्रख्यात) ने अपने लगभग बीस से भी अधिक वर्षों के पत्रकारिता अनुभवों को पिरोकर युवा पीढ़ी को मीडिया जैसे अति महत्त्वपूर्ण विषय की सभी विधाओं को समेटने का प्रसंशनीय प्रयास किया है. जिसमें प्रिंट मीडिया, फोटोग्राफी, लेखन, रेडियो, टेलीविजन, फिल्म, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, मीडिया साक्षरता,विज्ञापन, भारतवर्ष की प्रमुख मीडिया शैक्षिक संस्थाओं, मीडिया एजेंसीज, संक्षेपाक्षर, मीडिया शब्दावली, मीडिया क्विज, मीडिया डे सहित,अपने निजी प्रेरक अनमोल विचारों को साझा किया है. इस पुस्तक को पढ़कर छठी कक्षा का विद्यार्थी भी मीडिया के मूलभूत स्किल विकाससित कर सकता है इसमें मॉस मीडिया स्टडीज के ग्यारवीं एवं बारहवीं के पाठ्यक्रम को भी विशेष स्थान दिया है तथा मीडिया प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने में भी काफी उपयोगी साबित हो सकती है.

क्रिएटिवस वर्ल्ड मीडिया अकैडमी के संस्थापक एवं द्वारका परिचय मीडिया समूह के प्रबंधक संपादक एस. एस. डोगरा ने दिल्ली विश्वविधालय से कला विषय में स्नातक, एम. डी. युनिवेर्सिटी, रोहतक, हरियाणा से बी.एड.- (अंग्रेजी माध्यम में) तथा इग्नू से पोस्ट ग्रेजुएट इन जर्नलिस्म एंड मास कम्युनिकेशन के अलावा त्रिवेणी कला संगम से फोटोग्राफी में बेसिक डिप्लोमा भी किया है. अपनी अंग्रेजी में लिखी पुस्तक “मीडिया कैन डू वंडर्स इन स्टूडेंट्स लाइफ” के माध्यम से मीडिया के दो दशकों से अधिक सक्रीय अनुभवों एवं मीडिया में कैरियर सम्बन्धी विषयों को साझा किया है.

इस पुस्तक के प्रकाशक पब्लिशिंग डॉट कॉम हैं जबकि मॉर्कटिंग (विपणन) मैपल प्रैस प्राइवेट लिमिटेड द्वारा की जा रही है. इसका मूल्य 250/- ढाई सौ रूपये है गौरतलब है कि यह पुस्तक अमेजन, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील, पब्लिशिंगडॉटकॉम तथा पेटीऍम जैसी प्रमुख ई-कॉमर्स साईट आसानी से उपलब्ध है जिनके माध्यम से इस किताब का ऑनलाइन आर्डर कर घर बैठे खरीदी जा सकता है.

Author’s Visit at Sri VIS


Sri VIS got the privilege to welcome the eminent writer Ms Deepa Agarwal for the launch of her book ‘Hindu Gods and Goddesses’. She has penned down about fifty books for the children ranging from mystery and adventure novels, ghost stories, stories of everyday life, picture books and biographies, retold fold tales and myths. She is fondly read and admired by children for her immense contribution to children’s reading in both India and abroad. 

On her visit to Sri VIS Ms Deepa Agarwal read out interesting extracts from her new launch ‘Hindu Gods and Goddesses’ to the students of Class – IV. The students were overjoyed listening to her and each one of them wanted to read more of the book. She was felicitated by the Primary Wing Headmistress Ms Shama Kapoor for giving us an informative session on her new book. Sri VIS family wishes Ms Deepa Agarwal lots of luck for her future endeavours.

Start Earning online – Get started with your first $



If you’ve been struggling to make a single cent online, this is your opportunity today…

Stop searching for magic pills, you should know that they don’t exist at all.

Instead, just follow these 4 simple steps, you can be making your very first $100 online.

Make sure to follow the training step-by-step to make money online within the next…

Click here to get started

Happy Birthday- Ashok Kumar


Thursday, October 12, 2017

सर्वोदय बाल विद्यालय प्रहलादपुर बांगर के 96 छात्र फीफा वर्ल्ड कप मैच देखने पंहुचे


नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम में आज आयोजित किए जा रहे फीफा वर्ल्ड कप मैच को देखने के लिए आज सर्वोदय बाल विद्यालय, प्रहलादपुर बांगर के 96 छात्रों और शिक्षकों के दल को प्रधानाचार्य श्री वी.के शर्मा ने शिक्षाविद् दयानंद वत्स और श्री रमेश मलिक के सान्निध्य एवं पी.ई.टी श्री विनोद खत्री के नेतृत्व में रवाना किया। इस अवसर पर श्री वी. के शर्मा ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि खेल हमारे शारीरिक और मानसिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। शिक्षाविद् दयानंद वत्स ने इस मौके पर छात्रों का आह्नवान किया कि वे मैच देखते हुए खिलाड़ियों के अनुशासन ओर उनकी खेल भावना से प्रेरणा अवश्य लेकर आएं।

MBS INTERNATIONAL SCHOOL – MBSians have done it again!!!!


Education is the most integral part of sustainable development. At MBS we believe that every child who comes to us has been blessed with a unique talent and will prove their mettle in their own unique way. With this thought in mind, individual abilities are always encouraged. Children are given the freedom to express their thoughts and share ideas to make them more progressive.

MBS proudly announces the victory of our students Chukkala Dinesh (X) and Nikhil Chaudhary (XI) who appeared in the Pre Regional Mathematics Olympiad 2017 and have emerged as winners.

Wednesday, October 11, 2017

More Feathers in the Cap for Venkateshwar International School

Venkateshwar International School, Sector-10, Dwarka has been conferred the following awards recently for providing exemplary services in the field of education.
Ranked 2nd in India in the STEAM Education Excellence Award by Education World
Grand Jury Ranking 2017


 Ranked 10th in Delhi as per the Education World India School Ranking 2017

* Ranked 2nd in West Delhi Leaders as per Times Survey 2017.

Thanks for your VISITs

 
How to Configure Numbered Page Navigation After installing, you might want to change these default settings: