Search latest news, events, activities, business...

Wednesday, November 30, 2016

N. K. Bagrodia Public School, Dwarka organised Cyber week

N. K. Bagrodia Public School , Dwarka organised Cyber related activities in the last week i.e 22.10.16 to 29.10.16 with myriad activities from classes I to V and XI- XII. It was an endeavour of the school to familiarise the students with the modern aspects of computer. The variegated competitions provided a platform to the students to showcase their talent and knowledge about computers.

Different activities were conducted for different classes like Intra class Quiz based on computer terminology,Jig Saw Mania Puzzle on the spot,Rangoli Design in MSW LOGO for classes I, II and III respectively. Similarly Powerpoint Presentation in MS Powerpoint for class V was conducted, in which students displayed beautiful presentations on the topic “Noise Pollution”. The events then followed by Inter house Poster Making Competition in MS-Word for class IV. Four teams from each house participated in the competition. All the Participants showcased great enthusiasm in participating. Participants of all four teams had made beautiful drawings in Ms-Paint and then they had used those drawings in MS-Word for making posters. Creativity of the students was showcased as the students did not use any readymade picture in making the posters. Certificates were also given to the students in each class as a token of appreciation. Classes XI-XII the students had shown their talent with c++ programming activities conducted in every class. The whole month was abuzz with a lot of fun and excitement.

प्रधानमंत्री के नोट बंधी से खुश है,राखी अरोड़ा

-चंदन शर्मा

प्रधानमंत्री मोदी जी के पुराने नोटबंदी पर अभिनेत्री राखी अरोडा का कहना कि ‘यह एक अच्छा प्रयास है, इससे कालेधन के प्रयोग पर रोक लगेगा’ साथ ही उनको खुशी भी है,अब फिल्मों में भी व्हाइट मनी का प्रयोग होगा...यह एक सार्थक प्रयास हैं। 

अभिनेता शाहरूख के साथ अभिनय करने की काम चाह रखने वाली राखी अरोड़ा कहती है कि‘शाहरूख सदाबहार स्टार अभिनेता हैं और रहेगें,मेरी दिली इच्छा है उनके साथ काम करने की। राखी कहती है कि बालीवुड में लंबे सघर्ष और अनेक चुनौतियों के बाद जैसे उनको पहचान मिली,आज भी मैं भी उसी दौर से गुजर रही हॅू। बतौर हीरोईन उनकी फिल्म ‘फीमेल एक्सप्रेस’ रीलिज हो चुकीं है,फिल्म को मिले अच्छे रिस्पांस से राखी खुश है। फिल्म में राखी एक नये और अलग अवतार में नजर आई। राखी कहती है कि‘यह मल्टी स्टार फिल्म ना होकर नये कलाकारों की हास्य प्रधान फिल्म है,जिसके निर्देशक रामगोपाल विमल है। ‘फीमेल एक्सप्रेस’ फिल्म के अलावा राखी एक अन्य फिल्म-’लव लव प्यार’ भी कर रही हैं। इसकी शूंिटंग जल्द ही में शुरू हाने वाली हैं। 

इस मुकाम तक पहंुचने के लिए राखी को लंबा सफर करना पडा। उन्होंने करियर की शुरूआत रंगमंच से की। कुछ विज्ञापनों में माॅडलिंग भी की। बालविवाह पर निर्मित एक फिल्म मैं उनके काम की सराहना भी हुई,लेकिन एक अलग पहचान मिली वीनस म्युजिक के अलबम विडियों ‘जवानी मेरी बिजली’ और ‘लहरियां’ से ।
राखी कहती है कि‘ बालीवुड में कलाकारोें की दस्तक किसी अग्नि परीक्षा से कम नहीं हैं,खासतौर पर उन कलाकारों के लिए जिनका कोई ‘गाॅड फादर’ नहीं है। लेकिन किस्मत और परिस्थितियां सब कुछ आसान कर देती हैं।’ राखी ने यह भी कहा कि वह ‘ निर्देशक रामगोपाल विमल की एक अगामी महिला प्रधान फिल्म में भी लीड रोल करने जा रहीं हैं। फिल्म का कन्सेप्ट काफी अच्छा हैं।’

Tuesday, November 29, 2016

Media Literacy Conclave on 3rd Dec. - coverage in Radio Dwarka



Click here to view full interview about the event.

सड़क सुरक्षा की दिशा में होण्डा की पहल

-प्रेमबाबू शर्मा

सड़क सुरक्षा की दिशा कदम बढ़ाते हुए होण्डा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इण्डिया प्रा.लि. ने इण्डिया इंटरनेशनल टेªड फेयर में 4000 से अधिक लोगों को सड़क सुरक्षा पर प्रशिक्षण दिया। होण्डा 2 व्हीलर्स ने दिल्ली यातायात पुलिस के सहयोग से नागरिकों को सड़क सुरक्षा के महत्व पर शिक्षित किया। 

भारत में अपनी शुरूआत से ही होण्डा ‘सड़क सुरक्षा प्रोग्राम’ के माध्यम से लोगों को सुरक्षित राइडिंग के लिए प्रोत्साहित कर रही है। कम्पनी ने अपने पैविलियन में सभी आयुवर्गों के आगंतुकों के लिए विभिन्न सड़क सुरक्षा गतिविधियों का आयोजन किया। होण्डा के सेफ्टी इंस्ट्रक्टर्स ने सफलतापूर्वक 1500 से अधिक व्यस्कों एवं 2500 से अधिक बच्चों को प्रशिक्षित किया।

5-6 वर्ष के बच्चों को प्राथमिक गतिविधियों जैसे रोल प्ले, इन्टरैक्टिव रोड सेफ्टी डिजिटल गेम्स के माध्यम से सड़क सुरक्षा पर शिक्षित किया गया। इसे बच्चों के लिए यादगार बनाने के लिए विशेष चित्रकला प्रतियोगिता भी आयोजित की गई और विजेताओं को आकर्षक पुरस्कार जीतने का मौका मिला। पैविलियन में फैमिली फोटो बूथ और विशेष डिजिटल सेल्फी ज़ोन भी थे।

9-12 वर्ष के बच्चों को नियन्त्रित वातावरण में सुरक्षित राइडिंग का महत्व समझाने के लिए पैविलियन में होण्डा सीआरएफ 50 टेªनिंग मोटरसाइकलें भी पेश की गईं। होण्डा ने व्यस्क आगंतुकों के लिए भी कई तरह के सड़क सुरक्षा खेलों का आयोजन किया।

राइडिंग ट्रेनरों ने (जो होण्डा के एक्सक्लुज़िव आॅथोराइज़्ड डीलरशिप्स पर भी मौजूद होते हैं) 16 साल से अधिक उम्र के राइडरों को सड़क के 100 सम्भावी खतरों के बारे में शिक्षित किया। इस तरह के वर्चुअल अनुभव सड़क पर यातायात सम्बन्धी खतरों के बारे में लोगों को सतर्क बनाते हैं, उन्हें सम्भावी खतरों एवं समाधानों के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं।

Monday, November 28, 2016

MBS International School,Dwarka hosts a charity Runathon


MBS International School, Dwarka, in the pursuit of athletic excellence proved it right that ‘Sport should be in your blood or veins, Not in the Joints or Bones’.

MBS acquainted young students with the basic concept of exercise by hosting Runathon 2016 where the parents gave in their 100% and became true role models for the younger generation.

The guests of honour for the event were Col. Parvinder Singh, Mrs. Muklesh Singh and Mrs. Mona Singh reminding us that ‘Victory is in the quality of competition and not the final score’.

Activities like Zumba, Medals for the finishers were highlights of the day. Our co-hosts were ’Run with me Foundation’ There was active and enthusiastic participation by people of all age groups from Delhi and NCR who whole heartedly supported the NGO ‘Eternal Prayer Fellowship’.

Ahmedabad International Literature Festival 2016 - A Journey Begins…


Ahmedabad International Literature Festival commenced with many leading personalities including poets, writers, storytellers, actors, directors, producers, journalists, publishers, editors, entrepreneurs and academicians convening at Ahmedabad Management Association (AMA) for the inaugural ceremony of the fest on Saturday.

The LitFest seeks to promote writing, reading, speaking and listening, particularly among children and young adults, with a focus on literature, cinema, media and entrepreneurship providing a rich feast for self-development through value-based messages. The event’s byline is ‘Discuss, Debate, Deconstruct’ with a positive note- ‘You can do it all. Be there.’ Over the course of two days, the fest explores varied themes like the relevance of Indian literature, world literature and Gujarati literature including mythology, poetry, short stories, literary commerce, entrepreneurship, workshops and much more.

The first day of the festival was graced by Madhur Bhandarkar, Bollywood film director, Raghuveer Chaudhari, novelist and poet, Yogesh Gadhavi, chairman of Sangeet Natya Academy, Geoff Wain, British Deputy High Commissioner at Ahmedabad. The keynote speech was given by Sumant Batra who focused upon the power and significance of art and literature in adding to the soft power of a nation.

A total of nine sessions were conducted on the first day of the festival. The fest got off to a super start, with an enthusiastic full house audience eager to listen to the conversation between National Award winning director Madhur Bhandarkar and popular Ahmedabad radio jocky Dhvanit. The theme of the session was ‘Captivating Storylines: How much does a good story matter?’ Mr Bhandarkar talked about how books and learning by watching quality work has added value to his creative journey. He mentioned that he was a school dropout, but despite that he never stopped reading books and newspapers. He got his education in the cinema while running a video library.

The journey continued with the hard hitting second session of the festival, which discussed the controversial topic of ‘Media-driven Stories: How fiction drives the news narrative in present times.’ It was a panel discussion moderated by Pradeep Malik and had the participation of Ajay Umat, Brajesh Kumar Singh, Anurita Rathore, Kiran Manral and Tuhin Sinha. All the participants of this session have worked in the media for many years and had many insights on its functioning. When discussing the importance of journalism, one of the panelists mentioned that journalism is the first draft of history. And hence people in this field have to be careful. All in all the session generated a lot of interest among the audiences.

The next remarkable session was ‘Looking for Literature: Is it in words around us?’ It was also a panel discussion moderated by Professor Nigam Dave and had the participation of distinguished personalities like Raghuveer Chaudhari, poet and novelist; Abnish Singh Chauhan, poet, critic and editor; Sandeep Nath, lyricist, screenwriter, director and producer; and Usha Narayanan, author and creative director. The session struck a chord with the youngsters at the event. During the discussion Raghuveer Chaudhary reflected, “Literature presents a vision of life through the sincere expressions of mind and soul. Therefore, it must reach to a larger audience.” Abnish Singh Chauhan spoke about the role of literature in order to culminate in ananda that leads a human being to a path of bliss.

The other significant sessions, such as ‘Book Launch: Let’s Race, Daddy! by Soham Shukla’ (unveiling by Raghuveer Chaudhaeri); ‘Poetry is for Everyone: Why the gap between supply and demand?’ (Panelists- Kumud Verma, Musafir Palanpuri, Nitin Soni, Santosh Bakaya, Tushar Shukla, moderated by Yaseen Anwar); ‘Revisiting Mythology and its Relevance Today: Reasons behind its growing popularity?’ (Panelists- Anuja Chandramauli, Suhail Mathur, Vinod Joshi, Usha Narayanan, Madhuri Sharma, moderated by Vishwesh Desai); ‘Book Launch: Shabdochchhav’; ‘Poetry Recitation by Pradeep Khandwala’; Gujrati Literature: Why it needs to reach out?’ (Panelists- Anil Chavda, Chinu Modi, Shobhit Desai, Sanket Joshi, moderated by Bhushan Mehta); ‘Short Stories: Are they around for the long haul?’ (Arun Kaul, Kiran Manral, Sumant Batra, moderated by Koral Das Gupta); ‘Gujarati Folk Tales: Continuing traditions’ (Panelists- Yogesh Gadhavi in conversation with Maulik Chauhan); ‘Book Launch: Ravi Manoram (unveiling by Tuhin Sinha) & ‘World Literature: Changing trends’ (Panelists- Arthur Duff, Fabrice Maingain, Tuhin Sinha, Vilpa Patel, moderated by Neeta Khurana), were also captivating and inspiring in tone and texture.

Day 2 event

The second day of Ahmedabad International Literature Festival was as exciting and interesting as the first day and it started with a bang! Sunday Morning also received a houseful audience and the day rolled off with a panel discussion on ‘Literature and Cinema: Stories that lead to blockbusters.’ The illustrious panel consisted of Abhishek Jain, filmmaker; Sandeep Nath, lyricist, screenwriter, director and producer; Sumana Mukherjee, independent filmmaker and producer; Piyush Bhatt, teacher, author and director and it was moderated by Madhuri Sharma, Mrs India 2015.

The conversation started with the question of the role of literature in cinema. All the panelists said that literature is a very important part of cinema and in fact, cinema is derived from literature. As Mr. Bhatt said, “Movies are literature on screen and we shouldn’t differentiate between the two.” It was also pointed out that books have influenced movies since the day the movie industry was established. Mr. Nath elaborated on this by pointing out that cinema is an audio-visual form and needs content which comes from literature. Mr. Jain had an interesting take as he brought out the fact that the process of film making starts with literature in the form of a ‘script’, which is then interpreted by the director.

The moderator asked the panelists about their own works and their influences. Ms. Mukherjee’s next work is based on one of Tagore’s work and contrasts 1934 with the present. Mr Jain talked about his recent production ‘Wrong Side Raju’ and that it is influenced by media stories and the power of perception. Mr. Nath’s next work is titled ‘DNA Mein Gandhi’ and looks at Mahatma Gandhi as a social reformer.

The second session of the day had the multi-talented actor and lyricist Piyush Mishra in conversation with Anurita Rathore, senior journalist and Umashankar Yadav, the festival director on the theme ‘The Power of Words: Spinning magic.’ Mr Mishra was honest about the lures and attractions of the film industry and how easy it is to lose oneself in the glamour and the struggles of people who want to break into the film industry.

It was very interesting to know that he is a spontaneous poet and the first poem that he wrote was while he was in class 8th. He feels that poetry can be written on any topic and one doesn’t need to search for it. He said that the only shortcut to writing was to write. He made a rather thought provoking point about the importance of creators ability to criticize himself/herself and the power of dissatisfaction (with one’s own work) in creating great work. He also enthralled the audience by reading out a couple of poems from the anthology of his poems- “Kuchh Ishq Kiya Kuchh Kaam Kiya” and also sang a rendition of the song 'Husna' very well.

The other sessions of the day were- ‘Sheen in their Teen: Why must young writers be taken seriously?’ (Lalima Yadav, Sanjay Agrawal, Vishwesh Desai, moderated by Priya Vyas); ‘Literary Agents: Who all need them?’ (Anil Chavda, Arti Motiani, Chintan Sheth, Suhail Mathur, moderated by Yogi Trivedi); ‘Entrepreneurship and Creativity: Walking hand in hand’ (Asha Mandapa, Mehrab Irani, Ravi Manoram, Sumit Agrawal, moderated by Jigna Shah); ‘Pratilipi.com- Online is on Line: Impact of growing online readership on print content’ (Abnish Singh Chauhan, Falguni Vasavada, Manoj Jena, Sanket Joshi, moderated by Sahradayi Modi); ‘Social Entrepreneurship: Srijan Pal Singh in conversation with Jatin Kataria’; Romance in Books: A marriage made in heaven’ (Raksha Bharadia, Nitin Soni, Sudeep Nagarkar, Ravi Bedi, moderated by Lalima Yadav). The speakers of the sessions were erudite and put their points before the audience well. They happily answered the questions raised by the audience and gave a great insight into the world of literature and allied fields in the country. On the whole, all the sessions were very informative, enjoyable and benefiting to the lovers of language and literature.

Along with lectures and discussions, the fest also played host to enriching workshops- ‘The Art of Letter Writing’ (Minu Jasdanwala), ‘Poetry Writing and Haiku Writing’ (Tulika & Vatsal Shah), ‘Paren Teens Workshop’ (Dr Nischal Bhatt), ‘How to Add 50000 Productive Hours to your Life’ (Sanjay Kr Agrawal), ‘Akha Nu Amdavad’ (Jay Makwana), ‘Tingle-E-Kavita’ (Fariburz Irani), ‘Shabdochchhav’ (Pinki Vyas), ‘Improve Poetry’ (Povera), ‘Open Canvass’ (Jharokha PDPU), ‘Writing for Blogs’ (Ranjani Sastry) among many others.

The event was well organized and the highly active members of the organizing team, especially Rashmi Goyal, Pinki Vyas, Manish Patel, Fariburz Irani, Bhushan Mehta, Vikas Yadav, curator Anurita Rathore and energetic festival director Umashankar Yadav along with lovely anchors Nivid Desai, Simran Chhabra, Nitin Pillai, Nirja Vasavada, Kaveen Panchal, Ayeshah Jariwala, Raj Chundawat and Kankana Roy, should be complimented for their productive efforts.

The LitFest closed on Sunday with a vote of thanks to the esteemed audience and the eminent speakers by the festival Director Umashankar Yadav, who humbly emphasized that “AILF is a collaborative effort to create explicit space to enable fruitful dialogue between writers and literary enthusiasts of the city for bringing literature to the center from the periphery.”

डाटाविंड का भारतीय टैबलेट बाजार पर दबदबा कायम

-प्रेमबाबू शर्मा

डाटाविंड इंक. (टीसीएक्स: डीडब्ल्यू), उभरती अर्थव्यवस्थाओं को सस्ती दरों पर इंटरनेट सुलभ कराने वाली प्रमुख कम्पनी का 33 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ तीसरी तिमाही 2016 में टैबलेट बाजार पर दबदबा कायम है। सैमसंग 16 प्रतिशत के साथ दूसरे स्थान पर है। भारत में 0.97 मिलियन टैबलेट की बिक्री (शिप) हुई जो सिलसिलेवार देखने पर रिकार्ड लगभग 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी है। हालांकि सीवाई 2015 की इसी तिमाही में टैबलेट सेगमेंट में लगभग 40 प्रतिशत की गिरावट आई थी।

डाटाविंड के प्रेज़िडेंट और सीईओ श्री सुनीत सिंह तूली ने कहा ‘सीएमआर रिपोर्ट से स्पष्ट है कि भारत की एक बड़ी आबादी को हमारी प्रतिस्पर्धी कम्पनियांे की तुलना में डाटाविंड के टैबलेट पसंद हैं। यह वाकई सम्मान की बात है। ग्राहकों ने हमें बड़े उत्साह से अपनाया और हम उनके आभारी हैं। दरअसल हम कई वजहों से दूरदराज के ग्राहकों तक पहंुचने में कामयाब रहे हैं जैसे हमारे डिवाइस के साथ फ्री इंटरनेट की सुविधा; निर्माण के लिए हमारे स्थानीय संयंत्र, पेटेंट तकनीकी और सबसे बढ़ कर हमारी दमदार और प्रतिबद्ध टीम।’

श्री तूली ने बताया, ‘‘आम जनता के लिए भी सस्ते हमारे टैबलेट और यूनिक मोबाइल इंटरनेट कनेक्टिवीटी के साथ हमें पूरा विश्वास है कि डाटाविंड ने पूरी दुनिया के लाखों लोगों के हाथ में इंटरनेट की सुविधा दी है और इस दिशा में सभी बाधाओं को दूर किया है। हम कीमतों को इस स्तर तक कम करना चाहते हैं कि तकनीकी सही मायनों में ‘जन-जन’ की पंहुच में हो और सही अर्थों में तकनीकी का प्रजातांत्रीकरण हो जाए।’’

डाटाविंड ने ऐसे प्रोडक्ट की कीमत अधिक होने की आम समस्या दूर कर दी है। यह पुराने मोबाइल नेटवर्क पर भी अच्छी इंटरनेट कनेक्टीविटी सुनिश्चित करती है। इसका सपना तीन अरब लोगों के लिए इंटरनेट सुलभ करना है जो अब तक इस सुविधा से वंचित हैं। डाटाविंड का आज की भारी प्रतिस्पर्धा के बावजूद इतना सफल होना इस बात का प्रमाण है कि यह एकमात्र टैबलेट निर्माता कम्पनी है जो भारत में वाकई बहुत कम कीमत पर प्रोडक्ट पेश करती रही है। डाटाविंड के डिवाइस के साथ एक साल के लिए फ्री अनलिमिटेड वेब की सुविधा और सबसे सस्ते प्लान उपलब्ध हैं। इसकी अनोखी, पेटेंट तकनीकी से वेब ब्राउजिंग के लिए आवश्यक डाटा की मात्रा में 97 प्रतिशत तक की कमी आ जाती है।

Musical Instruments - Hot products Heavy discounts


Juârez JRZ38C Acoustic Guitar, Blue Sunburst

Features:
Number of Frets: 18
Acoustic guitar with strap, bag, strings and 2 picks
Great looks with an innovative design to produce good quality sound
Finger Board: Linden wood
Fretboard: Ebony wood
Size: 38 inches, cutaway
Linden binding and full wood construction with geared tuning, wood frame and steel strings

View full detail about Juârez Acoustic Guitar @link

***********************************************



Features:
Touch sensitive keyboard for expressive control
573 high quality voices
158 accompaniment styles- real-time backing tracks for a wide range of music types
150 different arpeggio types for professional programmed effects
Nine-step lesson function (Yamaha Education Suite) helps beginners learn to play
Aux input with Melody Suppressor feature for instant backing tracks
Master EQ to adjust the sound to your personal taste
iPad/iPhone and computer connectivity options to expand your keyboard with software and apps

View full detail about Yamaha 61 Keys Portable Keyboard with Adaptor @link

Sunday, November 27, 2016

Media Literacy Conclave in Dwarka - S.S. Dogra


Mr. S.S. Dogra - Mg. Editor-Dwarka Parichay - In an exclusive Interview with Anchor Khushbu Dixit on MS TV channel. Know more about Media Literacy Conclave in Dwarka/  1st Children Film Festival Dwarka in this video.



View full video @link


मेरी जर्नी तो उतार-चढ़ाव के बीच रही: विद्या बालन

-प्रेमबाबू शर्मा

स्वभाव से हंसमुख, विनम्र और स्पष्ट भाषी अभिनेत्री विद्या बालन ने एकता कपूर के टीवी शो हम पांच में जब अभिनय किया तो उनको भी नही पता था कि एक दिन बालीवुड में उनके नाम की डंका बजेगा। फिल्म ‘परिणीता’, ‘लगे रहो मुन्ना भाई’ ‘द डर्टी पिक्चर’, ‘कहानी’ आदि कई फिल्मों से अपने अभिनय का लोहा मनवा चुकीं हैं। ‘लगे रहो मुन्ना भाई’ उनके करियर की टर्निंग पॉइंट थी। जिसके बाद से उन्हें पीछे मुड़कर देखना नहीं पड़ा. उन्होंने अपने उत्कृष्ट परफोर्मेंस के लिए कई अवार्ड जीते। साल 2014 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया. यही वजह है कि आज कोई भी निर्माता,निर्देशक उन्हें लेकर एक सफल फिल्म बनाने की कोशिश करता है। वह अपनी कामयाबी से खुश हैं और मानती हैं कि एक अच्छी स्टोरी ही एक सफल फिल्म दे सकती है. ‘कहानी’ फिल्म उनकी सफल फिल्म रही, इसके बाद ‘कहानी 2’ में भी वह फिर एकबार जबरदस्त भूमिका में आ रही हैं। वह क्या सोचती है,अपने फिल्मी करियर के बार में जानते है,उनकी ही जुबानी ।

फिल्म ‘कहानी 2’ को करने की खास वजह क्या है?
ये एक अलग तरह की इमोशनल थ्रिलर फिल्म है। अलग दुनिया, अलग भूमिका, सब अलग है। फिल्म में दुर्गा रानी सिंह के साथ जो होता है वह एकदम अलग है। साढ़े चार साल बाद यह नयी कहानी आई है। इसकी कहानी रोमांचक और मनोरंजक है। इसमें मुझे एक अलग भूमिका करने को मिला जो अच्छी और चुनौतीपूर्ण है।

ये फिल्म एक मां और बेटी की कहानी है, आप इसे कैसे ‘एक्सप्लेन’ करना चाहेंगी?
मेरे हिसाब से एक मां अपनी बेटी के लिए कुछ भी कर सकती है। किसी का कत्ल भी कर सकती है. कुछ ऐसी ही भाव इस फिल्म में है और शायद अधिकतर मां ऐसी ही होती है. दुर्गारानी सिंह भी ऐसी ही महिला है। एक रियल भूमिका निभाने में बहुत अच्छा लगा।

सीक्वल करना कितना मुश्किल होता है? कितना प्रेशर होता है?
हां, मुझे पता है कि लोग पुरानी कहानी से इसकी तुलना करेंगे। मैंने निर्देशक से इस बारें में बात भी की। उन्होंने कहा कि ये फ्रैंचाइजी है। इसमें हर कहानी अलग-अलग होगी। पहली बार फिल्म सुनते ही मैंने निर्देशक से पूछा कि क्या इस फिल्म में पुरानी फिल्म का कुछ भाग होगा? उन्होंने आत्मविश्वास के साथ कहा कि ये एकदम अलग फिल्म है, इसकी तुलना उससे नहीं होगी।

इस फिल्म के लिए आपने कितना होम वर्क किया?
सुजोय और मैं हमेशा फिल्म को और उसके भूमिका को लेकर बात करते रहते हैं, उसमें ही आधी तैयारी हो जाती है, क्योंकि किरदार को समझने में समय लगता है, लेकिन लगातार बात करते रहने से वह आसान होता है। इसमें एक जगह जहां मेरा एक्सीडेंट होता है प्रोस्थेटिक का प्रयोग किया गया है. उसके लिए कई ट्रायल्स हुए। मेकअप पर बहुत ध्यान दिया गया, क्योंकि निर्देशक ‘नो मेकअप लुक’ चाहते थे। जो फिल्म के एक भाग पर अधिक था। दूसरे भाग में प्रोस्थेटिक का प्रयोग हुआ है। वे ड्राई स्किन चाहते थे, क्योंकि दृश्य पहाड़ों पर रहने वाले के थे। जो कलिम्पोंग में शूट हुआ। मेरे मेकअप आर्टिस्ट श्रेयस म्हात्रे ने काफी मेहनत की है। फिर भी सही नहीं हुआ। अंत में निर्देशक ने मोयास्चरायजर लगाने को मना किया। मैंने वही किया और लुक सही आया।

फिल्म का कौन सा भाग अभिनय करने में मुश्किल लगा?
किसी का कान चबाना था। मुझे बहुत बुरा लगा. मुझे डर भी लगा था कि ये सीन एक बार में हो जाये। बार-बार ‘रिटेक’ ना करना पड़े।

आपके हिसाब से फिल्म का प्रमोशन करना कितना जरुरी है?
फिल्म का प्रमोशन करना बहुत जरुरी है। ये आज के कलाकारों के लिए अच्छा मौका है कि वे अपने काम को लोगों तक मीडिया के माध्यम से पंहुचा पाते है। इसे मैं हमेशा नयी-नयी तरीके से करना चाहती हूं. ताकि दर्शकों की रूचि फिल्म के प्रति बढ़े। मुझे अलग-अलग तरीके से प्रमोशन करने में मजा आता है।

अब तक की जर्नी को कैसे देखती है? अपने आप में कितना बदलाव महसूस करती है?
जर्नी तो उतार-चढ़ाव के बीच रही कुछ फिल्में चली कुछ नहीं, पर मैंने कभी हार नहीं मानी, क्योंकि हर दिन एक नया दिन होता है और हर दिन आप कुछ नया कर सकते हैं। मेरे जीवन में बदलाव तो बहुत आया, पहले मैं अकेली थी अब शादी हो चुकी है. सब कुछ बदल चुका है समय के साथ-साथ मैं भी ग्रो हुई हूं।

आप हमेशा कुछ न कुछ सामाजिक कार्य करती हैं, इसकी रूचि कहां से पैदा हुई?
बचपन से ही हमें सिखाया जाता रहा है कि हमें वो सबकुछ मिला, जिसकी जरुरत है। लेकिन इसका कुछ भाग हमें उनको देना चाहिए जिनके पास यह सब नहीं है। मेरी बहन भी अपने बच्चों को शेयर सिखाती है। ये बचपन से ही बच्चों को सिखाना पड़ता है। इससे बच्चों में संवेदनशीलता बढ़ती है। साथ ही इससे आप को खुशी मिलती है और एक इंसान अपने पास कितना रख सकता है। ये सारी चीजे मुझे किसी और के बारें में सोचने पर मजबूर करती है और मैं सामाजिक कार्य की ओर चल पड़ती हूं।

आप तो एक मलयालम कहानी पर आधारित फिल्म भी कर रही थीं ?
जी हाॅ। मैं एक मलयालम बायोपिक लेखक कमलादास पर कर रही हूं। उसी की तैयारी चल राही है। वह एक कंट्रोवर्सियल महिला थी। जिस तरह से वह अपनी जिंदगी जीती थी वह लोगों को अभी भी रुचिकर लगता है। उनपर फिल्म बन रही है और मैं उनको समझना चाहती हूं। इसके अलावा किसी भी भाषा में अच्छी स्क्रिप्ट पर मैं काम करना चाहूंगी। अभी मराठी और बांग्ला दोनों से ऑफर आते हैं, पर कोई बात अभी तक बनी नहीं है।

भारतीयों पर्यटकों को लुभाने में लगा स्विट्जरलैंड

-प्रेमबाबू शर्मा

स्विट्जरलैंड पर्यटन ने भारतीय पर्यटकों को लुभावने के मकसद से अपने प्रचार अभियान के लिए ‘नेचर वॉन्ट्स यू बैक’ (प्रकृति आपको वापस बुला रही है) अभियान की शुरुआत की घोषणा की। शीतकालीन अभियान हर प्रकार के एक्शन और रोमांच पर केंद्रित होगा प्रकृति के सबसे कलात्मक परिदृश्यो में से एक-स्विट्जरलैंड में जिसे तलाशा जा सकता है, जिसकी टैगलाइन है ‘यू कैन......बट यू डोन्ट हैव टू’ (आप कर सकते हैं..... परंतु आपको करने की जरूरत नहीं है )। ग्रीष्मकालीन अभियान ‘नेचर वॉन्ट्स यू बैक’, भी शुरू किया गया, जिसका नेतृत्व ब्राण्ड एम्बेसडर रणवीर सिंह द्वारा किया जायेगा।
Mr. Claudio Zemp, Director – India, Switzerland Tourism

शीतकालीन पर्यटकों पर प्रारंभिक ध्यान केन्द्रण के साथ, स्विट्जरलैंड पर्यटन सक्रिय मुसाफिरों और क्रिसमस के बाजारों के लिए स्कीइंग, स्लेजिंग और स्नोबोर्डिंग, थोड़े ज्यादा आरामपसंद पर्यटकों के लिए जो शीतकाल में पूर्ण आरामदायक समय बिताना चाहते हैं, उनके लिए खुले गर्म फव्वारे और इग्लू में रहने जैसे अनेकों विकल्प पेश करेगा। इस अभियान के ग्रीष्मकालीन विशेषता भी, स्काई-डाइविंग, वेकबोर्डिंग, कैनियनिंग इत्यादि अनेकों गतिविधियाँ के साथ-साथ स्विट्जरलैंड की सबसे अच्छी पर्यटन और प्राकृतिक विशेषताएँ लेकर आयेगा।

श्री कलॉडिओ जेम्प, भारत में स्विट्जरलैंड पर्यटन के निदेशक ने कहा, ‘स्विट्जरलैंड सिर्फ मनोरम दृश्यों के लिए नहीं जाना जाता है बल्कि यहाँ और नई-नई चीजों को आजमाने वाले भारतीय यात्री के लिए बहुत सी गतिविधियाँ और रोमांच है जैसे स्कीइंग, स्नो-शू ट्रैकिंग, टोबोगैंगिंग जैसे खेलों के साथ रोमांच के प्रति अपने छुपे हुए शौक को पूरा कर सकते हैं।’

स्विट्जरलैंड टूरिज्म इंडिया की सह-निदेशक, सुश्री रितू शर्मा ने कहा, ‘हमारा नया अभियान बस लोगों को यह बताने के लिए है कि स्विट्जरलैंड में शीत और ग्रीष्म ऋतू के लिए रोमांचकारी खेलों और गतिविधियों के बहुत सारे विकल्प हैं सुरम्य प्राकृतिक सौन्दर्य के अलावा, स्विट्जरलैंड उन परिवारों और हनीमून पर जानेवालों के लिए सम्पूर्ण पैकेज है जो न केवल आरामदायक छुट्टियों की तलाश कर रहे हैं बल्कि थोड़े रोमांच की इच्छा भी रखते हैं।’

यूरोप के एकदम बीचो-बीच और स्विस ऐल्प्स की तलहटी में बसे ज्यूरिख शहर पुराने शहर और आधुनिक शहरी घरों का एक खूबसूरत मेल प्रस्तुत करता है। नई विशेषताओं में फीफा वलर्््ड फुटबॉल म्युजियम और स्वादों से भरपूर उत्सव फूड ज्यूरिख शामिल हैं। पर्यटक स्विट्जरलैंड की कला और संस्कृति की राजधानी - बेसल के साथ एक अलग तरह की खोजी यात्रा पर भी जा सकते हैं। राइन हार्बर में बेसल का तीन सीमाओं वाला क्षेत्र स्विट्जरलैंड, जर्मनी और फ्रांस के मिलने के बिंदु को दर्शाता है।

स्विट्जरलैंड में इटली की थोड़ी सी झलक देखने के लिए आप टिसिनो की ओर जा सकते हैं जो की जल्द ही दुनिया की सबसे लंबी सुरंग - गोथार्ड बेस टनल शुरू करने वाला है, जो ५७ कि.मी. क्षेत्र में फैली हुई है। जरमैट जो कि विश्व-प्रसिद्द मैटरहॉर्न चोटी की तलहटी पर स्थित है, वहाँ आप विभिन्न प्रकार के रोमांचक खेलों का आनंद उठा सकते हैं। मैटरहॉर्न ग्लेशियर पैराडाइस,यूरोप का सबसे ऊँचा केबल कार स्टेशन है...आदि प्रमुख हैं।

Media Literacy Conclave in Dwarka - messages from - Dr. Alok Satsangi - Director-Asian School of Media Studies


Please click the (Photo image) following YouTube link to see the Video.


View full video @link


Happy Birthday- Bappi Lahiri


Saturday, November 26, 2016

N. K. BAGRODIA PUBLIC SCHOOL celebrated Dignity of work day

The dignity of work, also known as the dignity of labour, is the philosophy that all types of jobs are respected equally, and no occupation is considered superior. To do work with one’s own hands is very a useful habit. There is nothing shameful or undignified in it. We find that in this world we can have nothing without work. 

Dignity of work day was celebrated on 21st October 2016 in our school. A variety of activities were conducted to sensitize students on how all kind of labourers play a vital role in our day to day life and how they get neglected.

An array of grade appropriate activities were designed for different classes which witnessed enthusiastic participation by the students. Class VI students wrote wonderful slogans which meant to glorify the work of different labourers. Class VII students brought gifts beautifully wrapped by contributing from their pocket money and went to give it to the children of labourers. This activity made them sensitive towards the people who are really not very well off in life and can't afford all types of luxury. VIII class students were encouraged for contributing in SWACHH BHARAT ABHIYAN and it was initiated by cleaning their school premises. IX class students made posters on "Dignity Of Work" some were really creative and nice. Class X students portrayed the life of labourers and their important in our life through a skit.

Overall the students spread awareness and sensitised the students about the importance of labourers in our life. They understood any kind of workdone sincerely is like worshiping God.

Join Live - Mann Ki Baat on 27th November @11 AM


Friday, November 25, 2016

Shahnaz Husain to give Free Consultation at India International Trade Fair 2016

Shahnaz Husain India Beauty Icon will give FREE CONSULTATION during India International Trade Fair 2016 at the Shahnaz Herbal Stall, on specific skin and hair problems On Saturday, 26th November, 2016, from 2 pm to 4 pm at Pragati Maidan New Delhi 

Shahnaz Husain, pioneer of the Ayurvedic Beauty Care Movement, is showcasing her globally renowned formulations, for beauty and health care, at the India International Trade Fair, 2016. The formulations, containing herb, flower and fruit extracts, essential oils, precious minerals and gems, have received prestigious international awards for Quality Excellence.

Among the products on display are the newly launched Shahnaz Husain Luxury Organic Range, comprising of a selected blend of chemical-free organic ingredients; the Shahnaz Husain Yogic Veda Range of formulations for a holistic beauty care routine, as well as the Starlight Range, re-launched in totally new packaging. Specially formulated for film and TV stars, it helps counter the damaging effects of harsh arc lights, sun, pollution, dust, wind and heavy make-up.

With over four decades of expertise, the Shahnaz Husain formulations are internationally renowned for specialized Ayurvedic beauty care and cures. The have received several international awards for Quality Excellence. As a special gesture to visitors to the Trade Fair, Shahnaz Husain is offering several attractive discounts on products and the Beauty Diploma Course. Indeed, the Shahnaz Herbal Stall at IITF 2016 offers the experience of advanced natural beauty care, based on India’s glorious herbal traditions.

Media Literacy Conclave in Dwarka - messages from - Rekha Vohra - Famous Cosmic Healer

Please click the (Photo image) following YouTube link to see the Video.




View full video @link


Sree Ayyappa Sewa Samithi, Dwarka celebrated 6th AYYAPPA POOJA


Sree Ayyappa Sewa Samithi, Dwarka Sub city, has celebrated its 06th AYYAPPA POOJA on 19th November 2016 at Dushera Ground, Sector 11, New Delhi 75. The samithi, started in the year 2011, is a registered cultural/spiritual Organization which inter-alia undertake social responsibilities and other humanitarian services.


The program started with Ganapathi Homam at 5.00 a. m followed by special poojas. Breakfast was distributed to all devotees. Bhajan recited by Sri Vighneswara Bhajana Mandali, Thiruvalla transformed the venue in to spiritual heaven with the participation of devotees. Annadanam (Bhandara) was arranged for all devotees in the form of traditional sadya, served in plantain leaves, during lunch time followed by Poor Feeding.

The evening session started at 4.00 PM with traditional colourful Procession, from the Pooja venue to the accompaniment of Caparisoned Elephant, Thalapoli, Ammankudam and Chendamelam. The highlight of the evening was the Dance Drama “Kaliyugavaradan Sree Ayyappan” choreographed by Guru Balakrishna Marar, Krishnapriya Natyalayam, New Delhi. Laghu Bakshanams was served to all devotees on conclusion of the program. Around 1500 devotees from all over NCT were gathered at the venue to obtain blessings of Lord Ayyappa. The celebrations came to an end at 10.00 PM.

फिल्म ‘डियर जिंदगी’ जीवन जीने की कलाओं पर आधारित है: शाहरूख


-प्रेमबाबू शर्मा

फिल्म ‘डियर जिंदगी’ के प्रमोशन के लिए आएं अभिनेता शाहरूख खान ने बताया कि ‘फिल्म इस फिल्म में मैं जीवन कोच की भूमिका निभा रहा हॅू फिल्म इस शुक्रवार को रिलीज हो रही है जो जीवन जीने की कलाओं पर आधारित है। गौरी शिंदे इस फिल्म के निर्देशक हैं।’ इसके बाद उनकी अगली फिल्म ‘रईस’ होगी जिसमें वे शराब तस्कर की भूमिका में दिखेंगे और आने वाले दिनों में वे इम्तियाज अली और आनंद एल. राय की फिल्मों में दिखेंगे।

इंडस्ट्री में अपने 25 साल के शानदार सफर के बीच शाहरूख खान के लिए अपनी फिल्मों के चयन की प्रक्रिया काफी जटिल रही है लेकिन इस सुपरस्टार का कहना है कि उन्होंने फिल्म बनाने के लिए हमेशा फिल्म निर्माता-निर्देशकों से संपर्क साधा है। शाहरूख ने कहा, ‘कभी-कभी तो यह अच्छा होता है और कभी-कभी उम्मीदें बिल्कुल अलग हो जाती है। मैं तो वास्तव में मानता हूं कि फिल्म पर फिल्म निर्माताओं का विशेषाधिकार होता है और अभिनेता को इसके बीच में नहीं पड़ना चाहिए।

शाहरूख का कहना है, ‘मैं कहानियों को सुनने के बजाए सीधा लोगों से मिलता हूं। आशुतोष गोवारिकर मेरे दोस्त हैं, उन्होंने ‘लगान’ फिल्म बनायी, मैं चाहता तो उनके साथ काम कर सकता था लेकिन मैंने ‘स्वदेश’ को चुना। मैंने फिल्म को नहीं चुना, बल्कि मैंने गोवारिकर को चुना क्योंकि उनकी इच्छा थी कि हम साथ में ‘स्वदेश’ को बनाए।’ 

शाहरूख ने बताया, ‘लोग सोचते हैं, ‘अगर मैं उनके साथ एक फिल्म बना लूंगा तो वे फिल्म को सुपरहिट बना देंगे। लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ भी नहीं है। मैंने कभी भी फिल्म की कहानियों को नहीं सुना और जब मैं ऐसा बोलता हूं तो लोग सोचते हैं कि मैं झूठ बोल रहा हूं, लेकिन मैं ऐसा नहीं हूं।’

एफईएचआई में आट्रियल सेप्टल डिफेक्ट से पीड़ित रोगी को स्कारलेस सर्जरी के जरिए किया इलाज

-प्रेमबाबू शर्मा

फोर्टिस एस्काॅट्र्स हार्ट इंस्टीट्यूट ने स्कारलेस (बिना किसी निशान के) के द्वारा उज्बेकिस्तान से आए एक युवा, जो जन्म के समय से ही आट्रियल सेप्टल डिफेक्ट (एएसडी) से पीड़ित था, का सफलतापूर्वक इलाज किया। इस सर्जरी टीम का नेतृत्व फोर्टिस एस्काॅट्र्स हार्ट इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर, कार्डियोवैस्कुलर सर्जरी डाॅ. युगल मिश्रा कर रहे थे।

पिछले दो साल से छाती में बाईं ओर दर्द से पीडित 18 वर्षीय तोशिकिनोव डोनियोर को स्थानीय डाॅक्टरों से परामर्श के बाद पता चला कि वह आट्रियल सेप्टल डिफेक्ट (एएसडी) जन्म जात विकार से पीडित है, डाॅ. मिश्रा संपर्क के बाद उन्होंने इस चुनौती को स्वीकारा और इलाज हेतु चुनौतीपूर्ण गैर-पारंपरिक सर्जरी करने के लिए बेहद इनोवेटिव तरीका अपनाया।

फोर्टिस एस्काॅट्र्स हार्ट इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर कार्डियोवैस्कुलर सर्जरी डाॅ. युगल मिश्रा कहते हैं, ’’इस सर्जरी में कई चुनौतियां थीं जैसे हार्ट पोर्ट डालने के लिए मिनिमल इन्वेसिव उपकरणों का इस्तेमाल; इलाज की जगह में दृश्यता और सर्जरी करने के लिए पेरिफेरल बाइपास करना। इस तरीके की सफलता से हम ऐसी समस्या से जूझ रहे अन्य रोगियों का भी स्कारलेस तरीके से इलाज कर सकेंगे।’’रोगी की छाती पर जो चीरा लगाया गया वह लगभग नहीं के बराबर था क्योंकि यह एरोल के फोल्ड में था, जो निपल के बिलकुल नीचे होता है। 4 से 5 सेंटीमीटर लंबा यह चीरा जन्म के समय के किसी निशान जैसा लगता था। एब्सोर्बेबल और मेल्टिंग टांकों की मदद से समय के साथ यह चीरा भी भर जाएगा।

फोर्टिस एस्काॅट्र्स हार्ट इंस्टीट्यूट के जोनल डायरेक्टर डाॅ. सोमेश मित्तल ने कहा, ’’यह हमारी एक और उपलब्धि है। फोर्टिस एस्काॅट्र्स हार्ट इंस्टीट्यूट ने हमेशा ही कार्डिएक इलाज में नए इनोवेटिव तरीकों का इस्तेमाल किया है। देश में पहली बार ऐसी सर्जरी किए जाने से हमने एक बार फिर साबित कर दिया कि हमारे डाॅक्टरों के पास बेजोड़ कौशल और प्रतिभा है, जिसका इस्तेमाल वे अपने रोगियों को बेहतर बनाने के लिए करते हैं।’’

Happy Birthday- Rakhi Sawant


Thursday, November 24, 2016

‘UMANG’ Theatre Festival at J M International School


JM International School celebrated, UMANG, The Theatre Festival for Grade Nursery woven around the purposeful central theme-“Mere Sapno Ka Bharat”… Let’s live for India”. If we want to create the India of our dreams, we need to understand our challenges and then work towards meeting them unitedly. The programme commenced with the lighting of the Ceremonial Lamp by the Chief Guest Mr. Ajayendra Urmila Tripathi, the Founder Director of the social media group “Roots and Wings”, Mr. Yogesh Gupta, the School Director along with Ms. Anuradha Govind, the School Principal. 

3+ Year Olds, who anchored the entire show themselves, spelled magic on stage with the thought provoking drama production, “Aam Ka Bageecha”, heartwarming cultural ballet, “The Legend of Ram”, the soul stirring presentation, the song of hope, “ Bande Hain Hum Uske”, the recitation, declamation, music & dance with impeccable confidence and finesse that enthralled one and all and the message which everyone took home with them was that from 1947 to 2016, our people have lived enough for themselves and now is the time to get up once and live for India.

महाराजा अग्रसेन अस्पताल द्वारा जांच शिविर का आयोजन

महाराजा अग्रसेन अस्पताल एवं चैरिटेबल ट्रस्ट के 25वीं सालगिरह के शुभवसर पर निशुल्क जांच शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें काफी सारे लोगो ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। अस्पताल के प्रधान डाॅ. सुशील कुमार गुप्ता ने बताया कि इस शिविर में पंजीकरण करवाने वाले रोगियों की शुगर, बीपी एवं डाॅक्टर परामर्श की सुविधा निशुल्क दी गई। 

इसके अतिरिक्त शिविर में आने वाले रोगियों को निम्नलिखित जांचो पर छूट दी गई, जैसे एमआरआई, एक्सरे पर 30 प्रतिषत तक की छूट दी गई एवं मुफ्त न्यूरोपैथी (नसो) का टैस्ट चिकित्सक सलाह, बोनडेक्सा, डायटिषियन सलाह, घुटने, कमर, कुल्हा, एवं हड्डियों, जोडो व नसो के दर्द एवं शिविर में आने वाले रोगियों को सभी रक्त जांच पर 50 प्रतिषत की छूट दी गई। 

डाॅ. सुशील कुमार गुप्ता ने कहा कि हमें एक साल में 15 कैम्प का आयोजन करना है और यह चैथा कैम्प है। डाॅ. गुप्ता ने कहा कि 40 वर्श के उम्र वाले व्यक्तियों को अपनी जांच कम से कम एक बार जरूर करानी चाहिए। नसो का टैस्ट एवं पैर, हाथ मशीनो के द्वारा जांच किया गया और अस्पताल में विजयते सारथी हरबल टी का भी लांच किया गया। 

निशुल्क कैम्प का चीफ गैस्ट कैलाश बन्सल ने फीता काटकर इस कैम्प का उद्घाटन भी किया और इस कैम्प में मौजूद हड्डी रोग विषेशज्ञ एवं हड्डी शल्य चिकित्सक डाॅ. अरविन्द अग्रवाल, डाॅ. अतुल कुमार गर्ग, डाॅ. वी.के. साहनी, डाॅ. मनोज गर्ग, डाॅ. संजीव सिंघल, डाॅ. नरेष गर्ग, नसो के दर्द के चिकित्सा विषेशज्ञ डाॅ. राजीव गुप्ता, डाॅ. जी.एन. गोयल भी इस कैम्प में मौजूद रहें।

Happy Birthday- Amol Palekar


The Environment Club of Ansal University organized a Marathon for the social cause of “Live Healthy Breathe Healthy"


The Environment Club of Ansal University organized a Marathon for the social cause of “Live Healthy Breathe Healthy.” There were 150 participants who took part in this run. There were students of Ansal University, underprivileged kids attached to NGO Koshish and school students from Scottish High as well. 

The event was partially sponsored by Rotary Club of Gurgaon. The Marathon was flagged off at the Botanical Garden Gurgaon and it culminated at the University campus. Chief Guest on the occasion, Sh. Rao Narbir Singh, Hon. Minister for PWD and Forests, Govt. of Haryana gave away the trophies to the winners.

Happy Birthday- Madhuri Rawat Varshney


Venkateshwar International School, Sector 10 Dwarka celebrated its Annual Day


Venkateshwar International School, Sector 10 Dwarka celebrated its Annual Day on 11 November 2016. Honourable Chief Guest, Mr. Ashok Pandey, Chairman National Progressive Schools Conference inaugurated the event with lighting of the lamp along with the school Chairman Shri Rajpal Ji, Director Mrs. Mrinalini Kaura and other dignitaries.

 The show started with a spectacular performance by the school orchestra, accompanied by the school's singers chanting Ganpati Shloka, followed by a heartwarming patriotic song and the contemporary dance. The play ‘The Pied Piper of Hamelin, its citizens and the tiny rats then stole the show. The meritorious achievers were felicitated in the Prize Distribution ceremony.  

The Director, Mrs. Mrinalini Kaura encapsulated the glorious achievements in the School Annual Report. The grand finale of the day was the Ballad, 'Ek Thi Veerangana - Jhaansi Ki Rani' which left an indelible mark on the audience. The magnificent show culminated with the vote of thanks and National Anthem.

Thanks for your VISITs

 
How to Configure Numbered Page Navigation After installing, you might want to change these default settings: