Search & get (home delivered) HOT products @ Heavy discounts

Saturday, April 30, 2011

4th Hum Kishore Festival – A Competitive Rendezvous of Youngistan

Hum Kishore festival (4th in the Series), an annual event organized by Urivi Vikram Charitable Trust to celebrate the competitive talent of adolescents in their co-curricular activities, was held from 19th to 23rd April, 2011 at three venues namely Urivi Vbikram National Centre for Adolescents (UVNAC), St. Columba’s School and PHD House. During these week-long celebrations, the Hun Kishore Festival engages a large number of students from as many as 63 Schools/Educational Institutions across Delhi/NCR. This year, prestigious St. Columba’s School has joined as a co-host. Starting with a series of competitions in painting, classical dance, instrumental Music, folk dance, singing, skit, elocution, debate, rangoli, create in best out of waste, essay writing, and standby comedy, the festival culminated into grand Finale showcasing the performances by the finalist. One of the contests ‘we act (skit/drama)’ was sponsored by National Foundation for Communal Harmony (NFCH). The teams offered for the various competitions are adolescents – centric and of current value, such as ‘protection of environment’ for Rangoli!;`Discipline and Success are interlinked’ for Elocution; `Parental Control over adolescents is a Boon or Curse’ and `Grand Parents are a Problem or a Solution to the Adolescents’ for Debate and the like.




Inaugurating the festival on April 19 ,Br.Leonard Lobo, Principal- St.Colamba’s School recalled how Julu tribal community of South Africa failed to know the value of diamonds found in their area till a priest told them so; and exhorted the participants to make best use of the opportunity given by the festival to show their artistic abilities.


The Grand Finale of the 4th Hum Kishore Festival was celebrated on April 23rd with fervor day at Lakshmipat Singhania Auditorium, PHD Chamber of Commerce and Industry, in the presence of Chief Guest shri A K Upadhyay, IAS, Secretary youth Affairs (Ministry of Youth Affairs & Sports), Govt. of India. Shri Lalit Kumar, Secretary, National Foundation for Communal Harmony, MHA also graced the occasion. Shri Upadhyay watched the performances with great interest and appreciated the UVCT’s initiative giving a well dignified stage to Adolescents’ extra – curricular talent. He also encouraged the active involvement of schools in this festival to come year by year. He also pointed out that holistic growth is far more needed in children than their mere academic excellence. Appreciating the UVCT’s effort, Mr. Lalit Kumar stressed on the importance and need of the events like Hum Kishore Festival, especially for adolescents in India in the present scenario.




During the festival, the children created an atmosphere full of energy and high spirits, putting up some great performances. The flow of audiences’ enthusiasm was intact from beginning to end of the programme. With regard of the overwhelming response among the audience, Dr. UNB Rao, Founder Chairman-Urivi Vikram Charitable Trust announced holding this festival next year from 24 to 28 April, 2012. Winning schools were awarded glittering Memorial Rolling Trophies and Children got Gold Medals; and runners up received Silver Medals/Bronze Medals. Each participant was also given a “Certificate of Participation”. The level of competition was applauded by one and all. The under mentioned are the Winners of the Rolling Trophies:


Event/Code No.
 Trophy
Winner
Code No. 01
Rangde De Basanti)
Shri Kundan Singh Bisht Memorial Trophy
Shiksha Bharati Public School, Dwarka
Code NO. 02
We Lecture (Elocution)
Kuldeep Prakash Sharma
A. E. S.N.  Rama Rao Memorial Sr. Sec. School, Janakpuri
Code No.03
We Create (Making the Best of Waste)
Sulapu Varhalamma memorial Trophy
St. Columbas School, Ashoka Road
Code No. 04
We write (Essay Writing )
S. Veerabhadhadhriah Memorial Trophy
Mira Model School, Janakpuri
Code No.05
Dharohar (Indian Classical Dance).
Kalahasti Gurunath Memorial Trophy
St. Mary School, Sec-19, Dwarka
Code NO. 06
We Design (Rangoli)
Smt. Gangamma & Gowrappaiah Memorial Trophy
Shiv Vani Model School, Mahavir Enclave
Code NO. 07
We Laugh( Laughter Challenge)
Smt. Kalahasti Susheela Memorila Trophy
Mount Carmel School, Sec-22,Dwarka
Code No.08
Folk Dance
.Mamchand Godara Memorial Trophy
Modern Convent School, Sec-4, Dwarka
Code No.09
WE Argue (Debate)
.R.M.Vats memorial trophy
Vandana International School, Dwarka
Code No. 10
Artist Oho (On the Spot Painting)
Smt Venkataratnam memorial Trophy
Mount Carmel School, Sec-22, Dwarka
Code No.11
We Play Music( Instrumental Music)
B.R Sarin Memorial Trophy

VenkateshwaraInternstional School, Sec-10, Dwarka
Code No.12
We Sing (Geet Mala)
Lakshmi Ammal memorial Trophy
Venkayeshwara International School, Sec- 18,  Dwarka
Code NO. 13
We Act ( skit/ Drama)
Kundan Lal Chopra Memorial Trophy
Basava International School, Dwaka
Best NGO Participation
Krishna Somany
Memorial Rolling Trophy

UVCT Tagore Garden
 


Started in January 2008 with a tradition of putting together young people, the Hum Kishore Festival is packaged to provide them an open forum to showcase their creative talents and thereby helping them to hone their competitive edge, in field other than usual academics. In the first festival, only 7 schools participated whereas the 2nd ‘Hum Kishore Festival’ (14-18 January, 2009) attracted as many as 19 schools and 3rd Festival (20 – 25 April, 2010) has had 42 schools.



Urivi Vikram Charitable Trust (UVCT), a non-governmental and non profit Organization, was established in India in 1991. It was founded by Dr U N B Rao, IPS and his wife, Urivi Chaya, in the memory of their only son Urivi Vikram, who died tragically in an accident at the age 21 years. UVCT has 11 centers functioning in five states - Maharashtra, Karnataka, Andhra Pradesh, Haryana & Delhi and alliance with a number of other organizations and institution. UVCT has also expanded globally with setting up of UVCT USA chapter. In the year 2008, UVCT accomplished a remarkable feat by establishing the first ever ‘National Centre for Adolescents’ named after Urivi Vikram and popularly called UVNAC. UVCT strives for the empowerment of adolescents and its priority target group comprises school-going children, drop-outs, under-achievers and underprivileged adolescents. UVCT has a motto of finding ways and means to transform the world’s ‘Burden of Population’ into ‘Assets of Human Resources’, through a process of empowerment, rather than of control.

Hem Kund, A Sikh Pilgrimage & Valley of Flowers Trek

Anil Kumar Rajput is well known in the travel trade since 1980. He has worked in India and abroad, a boxer, a rifle shooter and a Para jumper in his college days. As Boy Scout and NCC cadet attended camps at many places which developed his interest in traveling and to explore new places, trekking, he loves driving to adventurous places and photography. 

( Get Travel guidance from A.K. Rajput - 9810506646 )




Hemkund Sahib


Hem Kund 
or Hemkunt is one of the holiest Sikh pilgrim place in Uttrakhand, it has a mention in the Bachittr Natak authored by the Tenth Guru, Gobind Singh Ji that he meditated in his previous birth at a lake of ice surrounded by Sapt Spring mountains and where the King Pandu fore father of Pandavas of Mahabharata  paracticed yoga, until nineteenth century the geographical location of this place was not known, it was the efforts of Pandit Tara Singh Narottam, Sikh scolar Bhai Vir SinghSohan Singh, a retired granthi and soldier Havildar Modan Singh  from  Indian Army, located this place and laid foundation of this pilgrimage site, it is at a height of 15,200 feet and opens during the summers from May till September, rest of the year it is covered under the snow and becomes inaccessible.
Hemkund Lake and the Hemkunt Sahib Gurudwara, Uttarakhand
The Start of our Journey through Haridwar/Rishikesh
Starting point to this pilgrimage is Hardiwar/Rishikesh about 275 kms drive to Gobind Ghat, it is advised to stay at Joshimath where there are good hotels, camps and rest houses which are available easily, next morning travel by bus or car 22 kms upto Gobind Ghat, it is situated at the confluence of River Alaknandaand Laxman Ganga, the gurudwara is situated at the right bank of Laxman Ganga, there is a small market, restaurants, guest houses, shops for trekking equipment, one can get porters and mules, there’s also a parking place for vehicles where pilgrims can park till their return from the trek.
A closer look of the Hemkund Sahib Gurudwara

First stop on this trek is Ghangaria also known as Gobind Dham which is 13 kms rocky path and unclear road, a base camp for two treks at a height of 3050 meters, one trek leads to Hemkunt Sahib and the other leads to Valley of Flowers. There are no arrangements for overnight stay at Hemkunt Sahib therefore pilgrims have to leave early to return the same day, there are open ground tents with mattresses, gurudwara, guest houses and dhabas(small restaurants) to take care of basic needs, it is here the riverPushpavati coming from Valley of Flowers and Laxman Ganga from Hemkund Lake meets. Pilgrims leave early morning on a 6 kms rocky trek which takes about 5-6 hours crossing the glacier to reach the Hemkund Lake, it is also known as Lokpal lake, there is a, Lord Ram‘s younger brother’s, Laxman temple on the banks of lake, it is believed that after the war with Meghnad when Laxman got wounded, came here to take rest and regain his health. A star shaped Gurudwara which is designed and  constructed under the supervision of Major General Harkirat Singh and Architect Siali from 1960AD onwards. It is situated at the height of 4240 meters on the banks of lake surrounded by seven snow capped mountains. After having the darshan one has to return to Ghangaria as there are no arrangements for night stay there.

The Valley of Flowers

Next day one can take a trek to Valley of Flowers which is 3 kms from Ghangaria after crossing the bridge over River Pushpawati, which takes about 2-3 hrs, no mules are allowed, at check post one is to make entry in register and a nominal fee is charged, one can feel the exotic scent in the atmosphere from here as trek toHemkund is full of smell of Mules dung, this valley is 5 kms long, it was known as Bhyunder Valley, In 1931 mountaineer Mr. Frank S. Smithe, lost his way after successful expedition of Kamet, by chance reached here, he was so impressed he authored a book “The Valley of Flowers” and wrote about the beauty and flora, thus giving its present name, until then this valley was not on a tourist map, legend has it, that Lord Hanuman came in search of Sanjivani herb after Laxman got injured in war with Meghnad
The Valley of Flowers, Uttarakhand Himalayas
This valley has mostly the orchidspoppysmarigolddaisies and anemone looking like a carpet on the ground and many medicinal plants, besides flowers there is a variety of wild life and commonly found animals are Snow LeopardMusk DeerRed FoxLangurHimalayan Black Bear and Brown Bear over 100 types ofButterflies are found here, among the birds are Snow PartridgeHimalayan MonalHimalayan Golden EagleSnow PigeonGriffin VultureSparrow Hawk etc. there are no tall plants, everywhere there is some grass, berries, shrubs, flowers, what to see and what to leave one gets so exited about the beauty. Rain is quite unpredictable and one is not allowed to stay in the valley at night and just one day is not sufficient if one is really interested in plants will like to come again and again.

Returning Home

Our return journey starts from Ghangaria/Gobind Dham to Gobind Ghat and then to Joshimath, one can stay for one day to explore the Ski slopes of Auli and view of Himalayan mountains or trek to lakes and meadows above Auli.

Dear reader/ member share your Travel experiencesaware - inspire others.

JOIN Solidarity March , 1 May, 2011 at 5pm at Jantar Mantar




Take a 2 minutes survey on CONTROL CORRUPTION.

Share your views/ articles to understand all about CORRUPTION.

NURTURE THE NARRATIVE - Inter –School Cultural Festival 2011-2012 at JMIS, Dwarka

JM INTERNATIONAL SCHOOL, Dwarka-6 hosted its annual event Nurture the Narrative 2011 – two day Inter School Cultural Festival on April 27 and 28, 2011.The fest had brilliantly talented students from sixteen prestigious schools of Dwarka. The event comprises of five events. Each event was specially chosen to widen participants’ interests in various activities, involving different level of classes.



Ms Anita (HT Pace Coordinator), Ms Neha (HT Pace Coordinator), Ms Jai Shree Iyer, Ms Bhavana Puri and Ms Neeru Bajaj were the worthy members of Jury.

Craftsman’s rolling trophy was won by VIS , sec-10. The first position in IT Presentation was scored by JMIS but being the host school rolling trophy was passed to next winner , Sri VIS. Glittering trophy for the first position in Ad Act was bagged by RD Rajpal. JMIS stood the first winner again in Dance Drama but the award was passed on to next winner Queen’s Valley. And the winner of Verbal Imagery was Mount Carmel while JMIS bagged third position which again was passed to next victor R.D Rajpal. The event witnessed amazing performances, leaving the audience gasped and proud. Jury members applauded the efforts of teachers and students.

The Royal Wedding 2011: Kate and William at Buckingham Palace

CONGRATULATIONS!
FRIDAY, 29 APRIL 2011 
The Royal Wedding 2011: Kate and William

Prince William and Kate Middleton shared a brief kiss in front of delighted crowds on the Buckingham Palace balcony after the royal wedding.

***************************


Time the great HEALER:
Prince Charles and Lady Diana Spencer
- July 29, 1982 - St. Paul's Cathedral
On 31 August 1997, Diana died as a result of injuries sustained in a car collision in the Pont de l'Alma road tunnel in Paris, France.

टीबी के प्रति जागरूकता पर आधारित है दो कहानियां: गुलशन सचदेवा

प्रेमबाबू शर्मा

आपकी अदालत शो से सुर्खियों में आए प्रसिद्व निर्माता निर्देशक गुलशन सचदेवा से हाल में फिल्म दो कहानियां के सेट मुलाकात में हुई । बातचीत के दौरान उन्होने बताया कि फिल्म दो कहानियां टीबी रोग के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए बनाई गई हैं। मजेदार बात यह कि इस फिल्म से जीनत अमान की बालीवुड में री-ऐट्री हो रही है। इसके अलावा तीन ओर फिल्में भी है जिसे हम स्वास्थ्य मंत्रालय के लिए बना रहे है। गुलशन सचदेवा ने बताया कि जब हमने जीनत को बताया कि हम डॉट टीबी पर बन रही फिल्म में उनको बतौर सेलिब्रेटी उनको लेना चाहते है तो उन्होंने तुरंत हॉ कर दी। ये चारो ही फिल्में हमारे दैनिक जीवन और हमारे चारो के दुषित वातारवण से पनपते रोगों पर आधारित है।




राष्ट्रीय पुरस्कार सम्मानित फिल्म ‘पेलियो वर्सज पोलियो’ के बाद से ही गुलशन सचदेवा लीक से हटकर गंभीर विषयो पर काम करने काम मन बना चुके है। वे कहते है कि ‘मै आम विषयों से हटकर क्रिएटिव काम करने में विश्वास रखता हॅ। जिसमें चुनौतियां हो। जब मैने टीबी पर बनी चार फिल्मों पर काम आंरभ किया और जानकारियां एकत्र करना शुरू की तो कई तरह की परेशानियां से सामना हुआ। किन्तु मेरे लिए इस फिल्म पर काम करने का एक अलग अनुभव था । 


दूरदर्शन सहित अलग अलग चैनलों के लिए दर्जनों धारावाहिक और टेलीफिल्मों का निर्माण व निर्देशन कर चुके गुलशन सचदेवा के पास एक लंबा अनुभव है। कालांतर में सत्य घटनात्मक जीवन और पारिवारिक पृष्ठभूमि से प्रेरित धारावाहिक पंचम, जंजीरे, लकीरें, कन्हैया, बंद बूंद, आसमान कैसे कैसे, लेखू और झूठ बोले कौवा काटे का निर्माण किया। किन्तु एक ही प्रकार के धारावाहिकों के निर्माण के पीछ कोई खास वजह ? प्रश्न के उतर में उनका कहना था कि मैं आम जिंदगी से जुड़े यथार्थवाद विषय ही मेरी पंसद रहे है। इस प्रकार के विषय के माध्यम से आप समाज मे फैली कुरूती जैसे मुददों को उठा सकते है । जैसे हमने कन्हैया और पंचम की कहानी द्वारा अनेक ज्वंलत मुददों को उठाया था।



राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित होते हुए कैसा लगा?
इस प्रश्न को सुनते ही बात सुनकर गुलशन सचदेवा का चेहरा खिल उठा और मुस्कराते हुए बोले कि यह मेरे लिए गर्व की बात है और एक प्रेरणा भी, कि मैं समाज में फैले ज्वलंत मुददों पर ही काम करूं।

निकट भविष्य की योजनाओं पर प्रकाश डालते हुए गुलशन सचदेवा ने कहा वर्तमान में एक राजस्थान धारावाहिक और पंजाबी फिल्म पर काम चल रहा है। किन्तु उसका विषय आजकल के फैमिली सीरियल्स की तरह इसमें किचन पॉलिटिक्स नही होगी। बल्कि धारावाहिक की कहानी मनोरंजन के साथ साथ नैतिकता, सामाजिक चेतना मूल्यों के प्रति सजग करती है। इसके साथ ही धारावाहिक में नारी समास्याओं को भी उठाया गया है।

Friday, April 29, 2011

तू भी खा - मैं भी खाऊं, ना तू शर्मा - ना मैं शरमाऊं



महेंद्र कुमार गुप्ता 
आरटीआई एक्टिविस्ट एवं सामाजिक कार्यकर्ता



 तू भी खा, मैं भी खाऊं,

ना तू शर्मा, ना मैं शरमाऊं

तू मुझे बचा , मैं तुझे बचाऊं,

तू भी मौज मना , मैं भी मौज मनाऊं 

चाहे जनता के सामने लड़ते जितना 

पर हमें है प्यार कितना

ना तू घबरा, ना मैं घबराऊँ ...
       

Jan Lokpal: On Sunday, We March!

Dear friends across India,


As the Jan Lokpal talks gather momentum, negotiators and decision-makers are feeling the heat of our people-powered movement.


The pressure is working, so let's ramp it up. This May Day citizens will march against corruption all across India. To all those politicians who think they can smear, delay, or outlast us, this is our chance to show that our movement is just getting started. To make the most impact we have to create noise everywhere - in the streets, online, on facebook, and in the halls of power.

Click below to join the Avaaz action center where you can get a list of march times and locations, join the virtual march by giving your name and comment to a marcher, change your facebook profile photo, or keep building our massive petition, which will be hand delivered directly to the jan lokpal committee on Monday!

Submit the petition

Three weeks ago, Anna Hazare declared a fast unto death until the government agreed to let civil society draft the Jan Lokpal bill. In just over 36 hours, 650,000 of us stood with Hazare to demand action. Four days later, we won! Proving that people power can prevail over the poison of political corruption.

The struggle won't be easy. Last week, poisonous allegations, contradictory reports and false scandals aimed to discredit civil society leaders and divide our movement inundated the press. But we reacted immediately -- launching a rapid response campaign with tens of thousands of us calling on PM Singh to rein in the smear campaign. This week, the smear machine seems to have gone quiet! We're winning, let keep the momentum going:

Submit the petition

PM Singh has promised to bring Jan Lokpal to a vote by August. So for the next 3 months, we have to meet every challenge, block every tactic, and overcome every obstacle that's thrown in our way, to get the law that all Indians want. This Monday, let's give our leaders a taste of what's to come.

With hope and determination,

Ricken, Luis, Saloni, Shibayan, Ben
and the whole Avaaz team.

किसानों के अधिकारों के लिए लडाई जारी रहेगी: चौधरी अजीत

प्रेमबाबू शर्मा



पार्टी को मजबूत बनाने के लिए किसान नेता चौधरी करतार सिंह भडाना बसपा छोडकर राष्ट्रीय लोकदल में शामिल हो गये । रालोद के अध्यक्ष एंव सांसद चौधरी अजित सिंह के यहां दिल्ली स्थित सरकारी आवास पर बड़ी संख्या में अपने समर्थकों के साथ पहंचे । अजीत सिंह ने कहा कि चौधरी करतार सिंह भडाना के पार्टी मे आने से पार्टी मजबूत होगी पही किसानो के अधिकारों की लडाई और मजबूत होगी। इस मौक पर रालोद के महासचिव सतवीर त्यागी,पूर्व सांसद मुशीराम, अनुराधा चौधरी, महेन्द्र सिंह यादवव एकनेकाम खान मौजूद थे।

चौधरी करतार सिंह भडाना ने कहा, मैं चौधरी चरण सिंह की नीतियों पर चलकर राजनीति करना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि 2004 में उन्होंने राजस्थान में दौसा लोकसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव तो जरूर लड़ा, लेकिन प्रदेश में गुर्जर आंदोलन के दौरान समुदाय के लोगों पर हुए जुल्म के चलते उन्होंने भाजपा छोड़ दी। मूल रूप से फरीदाबाद के रहने वाले और हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल की सरकार में 1996 से 2004 तक मंत्री रहे भडाना को उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी से भी शिकायत है। उन्होंने कहा कि 2009 में सपा ने उन्हें बिजनौर लोकसभा सीट से प्रत्याशी तो बना दिया, लेकिन बाद में इतनी गुटबाजी बढ़ी कि उनका टिकट ही काट दिया गया। उसके बाद उन्होंने हरियाणा में मायावती की बसपा का भी दामन थामा, लेकिन वहां भी नहीं निभी। अजित सिंह ने कहा कि करतार के रालोद से जुड़ने से पार्टी को अपनी लड़ाई को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। 

री-ऐट्री को तैयार जीनत अमान

प्रेमबाबू शर्मा

सन् 80 के दशक में अपने नाम और काम से धूम मचाने वाली जीनत अमान अब एक लंबे गैप के बाद में फिर से फिल्मों में फिल्म अधूरी शेव से वापसी करने जा रही हैं। फिल्म अधूरी शेव में समाज सेविका का रोल करेगी। यह पहली फिल्म है जिसमें जीनत लीक से हटकर काम कर रही है। हाल ही में जीनत ने स्वास्थ्य मंत्रालय की चार शॉर्ट फिल्मों को स्वीकारा जो टीबी की बीमारी और इसके इलाज के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए बनाई गई हैं। इसे बनाया है आर.के. स्वामी और निर्देशक गुलशन सचदेवा ने। गुलशन बताते है कि उन्हे चार फिल्में बनाने का जिम्मा मिला है और जीनत इस फिल्म में काम करने के लिए बिना मेहनताना लिए राजी हो गयी थी ।

ANHLGT delegation met DCP Anil Kumar Ojha regarding Protection of Public Property in Dwarka


Citizen's Reporter
Cicily Kodiyan,
President of ANHLGT


ANHLGT delegation consisting of governing body members met DCP Mr. Anil Kumar Ojha on 19th Arpil 2011 and apraised him about the stolen property in Dwarka. Transformers, electrical poles and fittings, iron railings of the parks, benches from the parks, lids of the manholes, nalas, cables and electrical wires etc are stolen regularly without any fear and hindrance. Even though it is informed to the police but till now culprits are not caught. Drug addictors are roaming around. As there is no light in and around the park it becomes centre of anti social elements and criminals. These problems create a lot of insecurity among the residents. Thieves enter from the backside of the societies, as there are no lights on side of the roads and by lanes. Open manholes and nalas causing regular accidents, children fall in and die. So we request DCP to take special measures to protect the public property. Mr. Ojha patently heard all complaints and told us that he will take necessary measures. He will be calling public-police meeting on regular basis in various sectors of Dwarka, so that he can understand the problems people facing, which will help him to control the crimes and security related problems of the area.

DISCUSSION ON VOTER I CARDS AND UID IN SECTOR-19, DWARKA

M.K. Gupta

A meeting at 10.30 am on Ist May, 2011 (Sunday) is being organized to discuss the Voter Id Cards and issue of Unique Identitication Number (UID). Aashish Mohan, SDM, Najafgarh will attend and try to resolve the complaints of the residents in the issue of Voter’s I Cards etc. at Ambience Banquet, Sector-19, Vardhman Crown Mall. The UID would obviate (end) the need to produce multiple documentary proofs of identity for availing of any government service.

Campaign by Election Commission of India (ECI)

Proud to be a voter - Ready to vote

Thursday, April 28, 2011

The first Anniversary celebrations of Dwarka Kala Sangam was held at Mass Apartments, Sector-10, Dwarka


Citizen's Reporter

R.R.ANEJA

PRESIDENT
DWARKA KALA SANGAM

The first Anniversary celebrations of Dwarka Kala Sangam was held at Mass Apartments, Plot No-24, Sector-10, Dwarka at 6-00 PM on 24th April, 2011.

Lt.Col.(Retd) R.R.Aneja, President, Dwarka Kala Sangam welcomed the members and guests present on the occasion. He told the audience about his passion for music right from his childhood and afterwards when he was serving in the army and his long felt desire to start a music association at the sub city Dwarka. He observed that the main noble object of forming the GOLDEN ERA SONGS AND MUSIC LOVERS ASSOCIATION which was later renamed as DWARKA KALA SANGAM was to revive public interest in Hindi Film songs of the Golden Era and help survive the melodious musical heritage that has been bestowed to us by our veteran music directors, lyricists and singers. He also put forth his view that the members of Dwarka Kala Sangam represented different disciplines of activity like defence, administration, engineering etc. He pointed out that at present there were 29 registered members consisting mostly of singers and avid music listeners. He also explained that most of the singers were amateur singers except for a few who were professionals. He further remarked that Dwarka Kala Sangam was able to achieve its objective with the dedicated services of its following office bearers and concerted efforts of its other constituent members:-

LT.COL.R.R.ANEJA- PRESIDENT,  MR.K.VENKATARAMAN- SECRETARY, MRS.SHASHI JAIN, MR.S.K.SAMBHARIA, MRS.SHASHI KOHLI, MRS.RAKESH SHARMA, DR.UN.B.RAO (IPS RETD)

LT. Col.Aneja also informed the guests that the main activity of Dwarka Kala Sangam is to organize music evenings every last Saturday of every month where the member singers would sing Hindi film songs of golden era either to the accompaniment of Orchestra in the background or with MINUS CD TRACKS.

He further observed that national newspapers like Hindustan Times as well as local newspapers like Dwarka City, Dwarka Citi Plus, Dainik Jagran, HT Dwarka Connect & online platform Dwarka Parichay covered our programmes from time to time which helped in getting our Sangam popular immense popularity. He expressed happiness over the fact that new music lovers have started showing interest in his organisation and that this augers well for the future of Dwarka Kala Sangam.

The programme started with a group song on Saraswathi Vandhana by Mrs.S.Jayalakshmi, Mrs.Gurdeep Kaur, Mrs.Rakesh Sharma and Mr.I.A.Khan which was well received by the audience. Mrs.Shashi Kohli, the compere of the programme gave a good account of her abilities behind the mike. The following singers, inter alia, gave a good account of themselves:-

SINGER ---------------------SONG------- FILM

1) MR.R.R.ANEJA--- OLD NUMBER-- NAGINA

2)MR.P.S.DHUNTA ---KATIBE TAQDIR ---MY SISTER

3)MR.K.VENKATARAMAN --KAL KI DAULAT-- ASLI NAQLI

4)MR.S.K.SAMBHARIA --JEEVAN SE BHARI --SAFAR

5)MR.S.K.ADHIKARI -----BEKARAAR DIL-------- DOOR KA RAHI
6)MR.JATINDER TANEJA------ KHWAAB HO TUM --TEEN DEVIYAAN

7)MRS.S.JAYALAKSHMI ---LAG JAA GALE -------WHO KAUN THI

8)MRS.RAKESH SHARMA -----SAIAAN DIL MEIN ----BAHAAR 
9)MRS GURDEEP KAUR -----JOOMTI CHALI HAWA -----TANSEN

10)MRS.AKSHARA ---------RASIK BALMA------- CHORI CHORI

 The members were served with north Indian dinner.  

Wednesday, April 27, 2011

मेरे संईया को मिला बिग बी आइमा अवार्ड


प्रेमबाबू शर्मा


सूफी गायकी से रसी बसी अलबम मेरे संईया को उसके उत्कर्ष संगीत और बेहतरीन गायकी के लिए बिग बी आइमा अवार्ड से सम्मानिम किया गया। यह संगीत की दुनियां में पहला मौका है जब किसी सूफी अलबम को पुरस्कृत किया गया। 

म्युजिक कंपनी फिल्मी बाक्स आफिस के निर्देशक नरेन्द्र सिंह ने अवार्ड पाने के सम्मान का श्रेय कंपनी  से जुडे सभी लोगों को देते हुए कहा कि म्युजिक कंपनी फिल्मी बाक्स आफिस द्वारा रीलिज मेरे संईया अलबम आम श्रोताओं की पंसद बन चुकी है। कंपनी का मकसद उम्दा संगीत देना है। उन्होंने कहा कि कंपनी ने कुछ समय पूर्व ही संगीत की दुनियां में कदम रखे है और कम ही समय में ही कंपनी ने संगीत प्रेमियो के बीच अपनी पहचान बना ली है। हाल में संगीत कंपनी ने हाल में ही फिल्म 24 अवार्ड और कैकर्स का संगीत भी रीलिज किया।


वर्तमान में इस कंपनी से नामचीन गायक और संगीतकार जुडें है। कंपनी का मकसद नये व पुराने गायको, गीतकारों और संगीतकारों को अपने जोड कर चलना है।


नरेन्द्र सिंह का कहना है कि बडे बडे सितारों वाली फिल्मों के संगीत को तो सभी म्युजिक कंपनियां लेना चाहती है, जो नये कलाकार है, लेकिन उनको मौका देने के लिए कोई भी आगे नही आती है।



म्युजिक कंपनी ने म्युजिक अधिकार के अलावा फिल्म मर्केटिग, मिडिया -अप प्रामोज जैसे काम करने के अलावा यू टीवी, इरोज, फॉक्स स्टार, परसेपट के अलावा दे दनादन दबंग, अलादिन, अंजाना अंजानी, लव आजकल, कमबख्त इश्क फिल्मों के प्रचार काम कर चुकी है। अपनी सफलता से उत्साहित नरेन्द्र सिंह मानते है कि वर्ततान में मौजूदा म्युजिक कंपनी से उनका कडी मुकाबला भले ही हो, लेकिन हमारी कंपनी ने संगीत प्रेमियों  को अच्छा और मेलोडियस संगीत दे कर अपनी एक अलग पहचान बनायी है। 

MAIN AND SLIP ROADS – IMPACT OF DWARKA FORUM

M K Gupta

1. Slip roads on all the four corners of Ashirwad Chowk in between sector 11, 12, 4 and 5 is now complete and commuters have started using the same. Likewise, slip road on the corner of naval society, sector 7 is now complete with the good quality of road.


2. About ¾ work is complete on the road in front of Shiksha Bharti School connecting to Ramphal Chowk.


3. Dwarka Forum has raised these issues and continuously highlighted in the media too. Dwarka Forum thanks Delhi Development Authority and all other agencies involved in these works and hope that in future, works should not be delayed for no reason.


4. DF also thanks Mr Anil Rajput ji and others for his continuous input and follow-up on the Ramphal Chowk slip road and is confident for such active role in future.

Share your problem, issues, achievements in this wonderful platform.

Thanks - Dwarka Parichay Team

Tuesday, April 26, 2011

बिकाऊ है भारत सरकार, बोलो खरीदोगे ?

अरविन्द केजरीवाल 
(प्रमुख आरटीआई एक्टिविस्ट एवं सामाजिक कार्यकर्ता)


पहले आयकर विभाग में काम किया करता था। 90 के दशक के अंत में आयकर विभाग ने कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों का सर्वे किया। सर्वे में ये कंपनियां रंगे हाथों टैक्स की चोरी करते पायी गयीं, उन्होंने सीधे अपना जुर्म कबूल किया और बिना कोई अपील किये सारा टैक्स जमा कर दिया। अगर ये लोग किसी और देश में होते तो अभी तक उनके वरिष्ठ अधिकारियों को जेल भेज दिया गया होता। ऐसी ही एक कम्पनी पर सर्वे के दौरान उस कम्पनी के विदेशी मुखिया ने आयकर टीम को धमकी दी - ‘‘भारत एक बहुत गरीब देश है। हम आपके देश में आपकी मदद करने आये हैं। आपको पता नहीं हम कितने ताकतवर हैं। हम चाहें तो आपकी संसद से कोई भी कानून पारित करा सकते हैं। हम आप लोगों का तबादला भी करा सकते हैं।’’ इसके कुछ दिन बाद ही इस आयकर टीम के एक हेड का तबादला कर दिया गया।

उस वक्त मैंने उस विदेशी की बातों पर ज्यादा गौर नहीं किया। मैंने सोचा कि शायद वो आयकर सर्वे से परेशान होकर बोल रहा था, लेकिन पिछले कुछ सालों से मुझे धीरे-धीरे उसकी बातों में सच्चाई नजर आने लगी है।

जुलाई 2008 में यू.पी.ए. सरकार को संसद में अपना बहुमत साबित करना था। खुलेआम सांसदों की खरीद-फरोख्त चल रही थी। कुछ टी.वी. चैनलों ने सांसदों को पैसे लेकर खुलेआम बिकते दिखाया। उन तस्वीरों ने इस देश की आत्मा को हिला दिया। अगर सांसद इस तरह से बिक सकते हैं तो हमारे वोट की क्या कीमत रह जाती है। मैं जिस किसी सांसद को वोट करूँ, जीतने के बाद वह पैसे के लिए किसी भी पार्टी में जा सकता है। दूसरे, आज अपनी सरकार बचाने के लिए इस देश की एक पार्टी उन्हें खरीद रही है। कल को उन्हें कोई और देश भी खरीद सकता है। जैसे अमरीका, पाकिस्तान इत्यादि। हो सकता है ऐसा हो भी रहा हो, किसे पता? यह सोच कर पूरे शरीर में सिहरन दौड़ पड़ी- क्या हम एक आजाद देश के नागरिक हैं? क्या हमारे देश की संसद सभी कानून इस देश के लोगों के हित के लिए ही बनाती है?

अभी कुछ दिन पहले जब अखबारों में संसद में हाल ही में प्रस्तुत न्यूक्लीयर सिविल लायबिलिटी बिल के बारे में पढ़ा तो सभी डर सच साबित होते नजर आने लगे। यह बिल कहता है कि कोई विदेशी कम्पनी भारत में अगर कोई परमाणु संयंत्र लगाती है और यदि उस संयंत्र में कोई दुर्घटना हो जाती है तो उस कम्पनी की जिम्मेदारी केवल 1500 करोड़ रुपये तक की होगी। दुनियाभर में जब भी कभी परमाणु हादसा हुआ तो हजारों लोगों की जान गयी और हजारों करोड़ का नुकसान हुआ।
भोपाल गैस त्रासदी में ही पीड़ित लोगों को अभी तक 2200 करोड़ रुपया मिला है जो कि काफी कम माना जा रहा है। ऐसे में 1500 करोड़ रुपये तो कुछ भी नहीं होते। एक परमाणु हादसा न जाने कितने भोपाल के बराबर होगा? इसी बिल में आगे लिखा है कि उस कम्पनी के खिलाफ कोई आपराधिक मामला भी दर्ज नहीं किया जायेगा और कोई मुकदमा नहीं चलाया जायेगा। कोई पुलिस केस भी नहीं होगा। बस 1500 करोड़ रुपये लेकर उस कम्पनी को छोड़ दिया जायेगा।

यह कानून पढ़कर ऐसा लगता है कि इस देश के लोगों की जिन्दगियों को कौड़ियों के भाव बेचा जा रहा है। साफ-साफ जाहिर है कि यह कानून इस देश के लोगों की जिन्दगियों को दांव पर लगाकर विदेशी कम्पनियों को फायदा पहुंचाने के लिए किया जा रहा है। हमारी संसद ऐसा क्यों कर रही है? यकीनन या तो हमारे सांसदों पर किसी तरह का दबाव है या कुछ सांसद या पार्टियां विदेशी कम्पनियों के हाथों बिक गयी हैं।

भोपाल गैस त्रासदी के हाल ही के निर्णय के बाद अखबारों में ढेरों खबरें छप रही हैं कि किस तरह भोपाल के लोगों के हत्यारे को हमारे देश के उच्च नेताओं ने भोपाल त्रासदी के कुछ दिनों के बाद ही राज्य अतिथि सा सम्मान दिया था और उसे भारत से भागने में पूरी मदद की थी।

इस सब बातों को देखकर मन में प्रश्न खड़े होते हैं---क्या भारत सुरक्षित हाथों में है? क्या हम अपनी जिन्दगी और अपना भविष्य इन कुछ नेताओं और अधिकारियों के हाथों में सुरक्षित देखते हैं?

ऐसा नहीं है कि हमारी सरकारों पर केवल विदेशी कम्पनियों या विदेशी सरकारों का ही दबाव है। पैसे के लिए हमारी सरकारें कुछ भी कर सकती हैं। कितने ही मंत्री और अफसर औद्योगिक घरानों के हाथ की कठपुतली बन गये हैं। कुछ औद्योगिक घरानों का वर्चस्व बहुत ज्यादा बढ़ गया है। अभी हाल ही में एक फोन टैपिंग मामले में खुलासा हुआ था कि मौजूदा सरकार के कुछ मंत्रियों के बनने का निर्णय हमारे प्रधानमंत्री ने नहीं बल्कि कुछ औद्योगिक घरानों ने लिया था। अब तो ये खुली बात हो गयी है कि कौन सा नेता या अफसर किस घराने के साथ है। खुलकर ये लोग साथ घूमते हैं। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि कुछ राज्यों की सरकारें और केन्द्र सरकार के कुछ मंत्रालय ये औद्योगिक घराने ही चला रहे हैं।

यही कारण है कि हमारे देश की खदानों को इतने सस्ते में इन औद्योगिक घरानों को बेचा जा रहा है। जैसे आयरन ओर की खदानें लेने वाली कम्पनियां सरकार को महज 27 रुपये प्रति टन रॉयल्टी देती हैं। उसी आयरन ओर को ये कम्पनियां बाजार में 6000 रुपये प्रति टन के हिसाब से बेचती हैं। क्या यह सीधे-सीधे देश की सम्पत्ति की लूट नहीं है?

इसी तरह से औने-पौने दामों में वनों को बेचा जा रहा है, नदियों को बेचा जा रहा है, लोगों की जमीनों को छीन-छीन कर कम्पनियों को औने-पौने दामों में बेचा जा रहा है।

इन सब उदाहरणों से एक बात तो साफ है कि इन पार्टियों, नेताओं और अफसरों के हाथ में हमारे देश के प्राकृतिक संसाधन और हमारे देश की सम्पदा खतरे में है। जल्द ही कुछ नहीं किया गया तो ये लोग मिलकर सब कुछ बेच डालेंगे।
इन सब को देखकर भारतीय राजनीति और जनतंत्र पर एक बहुत बड़ा सवालिया निशान लगता है। सभी पार्टियों का चरित्र एक ही है। हम किसी भी नेता या किसी भी पार्टी को वोट दें, उसका कोई मतलब नहीं रह जाता।
पिछले 60 सालों में हम हर पार्टी, हर नेता को आजमा कर देख चुके हैं। लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ। इससे एक चीज तो साफ है कि केवल पार्टियाँ और नेता बदल देने से बात नहीं बनने वाली। हमें कुछ और करना पड़ेगा।

हम अपने संगठन परिवर्तन के जरिये पिछले दस सालों में विभिन्न मुद्दों पर काम करते रहे हैं। कभी राशन व्यवस्था पर, कभी पानी के निजीकरण पर, कभी विकास कार्यों में भ्रष्टाचार को लेकर इत्यादि। आंशिक सफलता भी मिली। लेकिन जल्द ही यह आभास होने लगा कि यह सफलता क्षणिक और भ्रामक है। किसी मुद्दे पर सफलता मिलती जब तक हम उस क्षेत्र में उस मुद्दे पर काम कर रहे होते, ऐसा लगता कि कुछ सुधार हुआ है। जैसे ही हम किसी दूसरे मुद्दे को पकड़ते, पिछला मुद्दा पहले से भी बुरे हाल में हो जाता। धीरे-धीरे लगने लगा कि देश भर में कितने मुद्दों पर काम करेंगे, कहां-कहां काम करेंगे। धीरे-धीरे यह भी समझ में आने लगा कि इस सभी समस्याओं की जड़ में ठोस राजनीति है। क्योंकि इन सब मुद्दों पर पार्टियां और नेता भ्रष्ट और आपराधिक तत्वों के साथ हैं और जनता का किसी प्रकार का कोई नियंत्रण नहीं है। मसलन राशन की व्यवस्था को ही लीजिए। राशन चोरी करने वालों को पूरा-पूरा पार्टियों और नेताओं का संरक्षण है। यदि कोई राशन वाला चोरी करता है तो हम खाद्य कर्मचारी या खाद्य आयुक्त या खाद्य मंत्री से शिकायत करते हैं। पर ये सब तो उस चोरी में सीधे रूप से मिले हुए हैं। उस चोरी का एक बड़ा हिस्सा इन सब तक पहुंचता है। तो उन्हीं को शिकायत करके क्या हम न्याय की उम्मीद कर सकते हैं। यदि किसी जगह मीडिया का या जनता का बहुत दबाव बनता है तो दिखावे मात्र के लिए कुछ राशन वालों की दुकानें निरस्त कर दी जाती हैं। जब जनता का दबाव कम हो जाता है तो रिश्वत खाकर फिर से वो दुकानें बहाल कर दी जाती हैं।

इस पूरे तमाशे में जनता के पास कोई ताकत नहीं है। जनता केवल चोरों की शिकायत कर सकती है कि कृपया अपने खिलाफ कार्रवाई कीजिए। जो होने वाली बात नहीं है।

सीधे-सीधे जनता को व्यवस्था पर नियंत्रण देना होगा जिसमें जनता निर्णय ले और नेता व अफसर उन निर्णयों का पालन करें।
क्या ऐसा हो सकता है? क्या 120 करोड़ लोगों को कानूनन निर्णय लेने का अधिकार दिया जा सकता है?

वेसे तो जनतंत्र में जनता ही मालिक होती है। जनता ने ही संसद और सरकारों को जनहित के लिए निर्णय लेने का अधिकार दिया है। संसद, विधानसभाओं और सरकारों ने इस अधिकारों का जमकर दुरुपयोग किया है। उन्होंने पैसे खाकर खुलेआम और बेशर्मी से जनता को और जनहित को बेच डाला है और इस लूट में लगभग सभी पार्टियाँ हिस्सेदार हैं। क्या समय आ गया है कि जनता नेताओं, अफसरों और पार्टियों से अपने बारे में निर्णय लेने के अधिकार वापस ले ले?

समय बहुत कम है। देश की सत्ता और देश के साधन बहुत तेजी से देशी-विदेशी कम्पनियों के हाथों में जा रहे हैं। जल्द कुछ नहीं किया गया तो बहुत देर हो चुकी होगी। 



(पीएनएन)

Nanhe chitrakar selected participants at Happy Home Apartment, Sector-7, Dwarka


Thanks for your VISITs

 
How to Configure Numbered Page Navigation After installing, you might want to change these default settings: