Download sample Dwarka Parichay e-paper (click below image)

Get all useful info & services @

Subscribe e-paper **** Download e-paper **** Message for Newspaper **** Toppers Award**
** Call for news-events-business PR services - 9213535579

Search latest news, events, activities, business...

Tuesday, April 15, 2014

REFLECTION- THE JOURNEY OF SOUL exhibition inaugurated by Amit Big B


Parul

15 th April, 2014. A cherished selection of PAINTINGS & PHOTOGRAPHS by Aarti Makkar REFLECTION - THE JOURNEY OF SOUL exhibition inaugurated by Amit Big B at Gallery A, (AIFACS), ALL INDIA FINE ARTS AND CRAFT SOCIETY.

The exhibition features a selection of 54 drawings & photographs by exceptional artist Aarti Makkar, revealing the journey of the soul as the artist perceives it and comprehends it. The artist did extensive research and contemplation on the topic, the exhibition is the result of her hard and sincere efforts. This will be the second solo exhibition of the artist. This is maybe the first time Paintings & Photographs are expressed togather. This is a great amalgamation of art, kind of experiment with new ideas and skills.

It is immensely important for Aarti Makkar, that Mr Shamshad Hussain an eminent Artist (son of late Shri M.F.Hussain) graced the occasion as the Chief Guest. Shri Paramjeet Singh(Chairman AIFACS), Shri T R Gupta (Vise President D A V Managing committee),Shri K N Dikshit (General Secretary, Indian Archaeological society), Shri Ravindra C Bhandri (CA and social Activist) & Sh. Shanker Sahney- Famous singer, Senior Journalist Sh. V.K. Sharma, Ms. Nidhi Gupta-Bollywood Cast Director, Cartoonist Sh.Jagjit Rana blessed Ms. Makkar as Guest Of Honour. Sharing her views about art with Dwarka Parichay, Aarti Makkar informed that Art is a divine matter and is a gift of Holy Spirit. Art touches us every day everywhere at home, at school, in the office and on the street.

The exhibition is open from April 15 till April 28 from 11.00 AM to 7.00 PM at Gallery A, (AIFACS), ALL INDIA FINE ARTS AND CRAFT SOCIETY, Rafi Marg New Delhi)

Photographs by Shivam

FREE EYE CHECK UP BY PAHAL


Pahal social organisation(Regd) with the association of Centre for Sight organised Free eye check up on 13th April'14 at  Sector-22, Dwarka.

More than 100 people mostly underprivileged benefited in the camp. Free spectacles organised by PAHAL for more than 40 people mainly rick saw pullers, security guards and constructed workers benefited in this camp. Pahal Social organisation conducting free eye check up in every Sunday with the cooperation of Centre for Sight.

DAUGHTER is not Equal to Son , It is Better Than a SON.....!


रविंदर डोगरा 

बेटी निकलती है तो
कहते हो छोटे कपडे
पहन कर मत जाओ ....
पर बेटे से नहीं कहते
हो कि नज़रों मैं गंदगी
मत लाओ....

बेटी से कहते हो कि
कभी घर कि इज्जत
ख़राब मत करना ...
बेटे से क्यों नहीं कहते
कि किसी के घर कि
इज्जत से खिलवाड़ नहीं करना ...

हर वक़्त रखते हो नज़र
बेटी के फ़ोन पर ...
पर ये भी तो देखो बेटा
क्या करता है इंटरनेट पर .

किसी लड़के से बात करते देखकर
जो भाई हड़काता है .
वो ही भाई अपनी गर्लफ्रेंड
के किस्से घर मैं हंस हंस
कर सुनाता है .

बेटा घूमे गर्लफ्रेंड के साथ तो कहते हो अरे बेटा बड़ा हो गया .
बेटी अपने अगर दोस्त से भी
बातें करें तो कहते हो बेशर्म हो गयी
इसका दिमाग ख़राब हो गया .....

पहले शोषण घर से बंद करो
तब शिकायत करना समाज से .......

हर बेटे से कहो कि हर बेटी कि इज़ज़त करे आज से ......…।

बात निकली है तो दूर
तक जानी चाहिए

Solar Energy: The Ultimate Source of Energy on Earth

Save upto 80 % electricity ...

Geeta

Energy is vital to life and existence. The sun gives out energy as light, heat and many other kinds of radiations. The sun, as we know it, the source of life on earth. It is considered our parent star because the fire energy from therein sustain all life’s.

The orbit of sun is 8, 64,000 miles in diameter contains 3, 35, ooo billion cubic miles of hot gases that weigh more than 2, ooo quadrillions tons. At the heart of this incandescent giant is the thermonuclear infernal which steadily feeds on its own matter –explosive fusing Hydrogen atoms into lighter Helium atoms and releasing stupendous floods of energy that raises the sun’s internal temperature to a mind boggling 18 million degree centigrade.


The sun pumps vitality and other types of energy throughout the solar system, as the heart pumps the vital blood throughout the physical body of a being.

The energy which the earth receives from the sun annually is about 1.6x1016 Kwh.The Energy which man consumes annually is about 7x1013Kwh.Hence the sun supplies 20,000 times as much energy as man consumes from all sources. Silicon cells have been developed by science which converts sunlight into electricity. Light rays striking the surface of a wafer of silicon dislodged electrons which are drawn off as electric current. When a number of silicon cells are connected to form a solar battery substantial voltage is generated.

The popularity of home solar power has skyrocketed because of the ever growing concerns of the environment and the high cost of oil and gas. Global warming and climate change has given us awareness that we can't keep burning fossil fuels and solutions like residential solar electricity need to be tested

Take a look at some of the many benefits home solar power systems can provide you and our environment:

Solar Energy Advantages:
1. Solar energy is a renewable resource, for all practical purposes.
2. Except for the processes involved in manufacturing the materials, solar energy does not give off any harmful substances.
3. Sun, unlike fossil fuels, does not exist only in specific pockets of the earth: it is everywhere, although not in evenly distributed concentrations.
4. Sunlight is free.
5. While far from perfect, the technology required using solar radiation as energy to produce heat, light, mechanical power and electricity already exists.
6. Small solar power systems are easily installed.
7. The systems are very low maintenance: they have no moving parts (except for fans and pumps, for example) and can last a long time.
8. Small systems require very little in the way of "monitoring" for routine operation.
9. Given the right data, it is almost always possible to predict how much power a solar energy system will produce.
10. The systems are quiet and increasingly unobtrusive

Green energy: When you use solar energy, you will realize that it uses absolutely no fuel other than the sun's light. Moreover, it does not release into the atmosphere anything harmful.

Affordability: Energy comes free. The installation cost is a one-time cost. Therefore, the investment is recovered within a few years of installation, making the power generated by solar energy absolutely free.

Ease of use: You cannot store conventional power but you can store solar power for future use.

Low on maintenance: The home solar power systems are easy to maintain. They do not involve high costs or too much effort, thus letting you reap the benefits of the solution comfortably.

Free and renewable: With solar energy, you can lower or even eliminate your monthly electricity bills.

Increase the value of your property: The price of your house tend to worth much more with the implementation of solar power systems.

Heating and cooling are two of the biggest expenses for most households


Welcome to two- in- one Solar Air Conditioner and room heater
Your air conditioning is one of the biggest energy monsters in your home. If you have an old air conditioner, it may be worth it to have it replaced with a newer, more efficient system. Solar air-condition collected solar heat energy by the collector, and the collected heat energy will be reasonable used in the system of solar air-condition. Then, it will down the power consumption and help the people to save energy cost. Solar air heater systems use the solar radiations to heat a particular room using solar panels we would all like cheaper electricity and gas bills. Most of us shop around for the provider with the lowest electricity, gas or oil prices and leave it at that, but there are other ways to warm your house. Not only could you save money in the long term by reducing your household fuel bills, but you can also do so in a more environmentally friendly way and, in today's world of global warming which produces extreme weather conditions, that is a major factor for many people.

To install useful SOLAR products in your HOME, SOCIETY or OFFICE (Eco friendly and cost effective ).
Send  your requirements... with contact details to email: 
info@dwarkaparichay.com


सुन्दरकाण्ड- सभी सुन्दर हैं !!!

मधुरिता

इसकी शुरुआत वर्णनामार्थ संसाधना से किया है। वर्ण कहते हैं अक्षर अर्थात जो नित्य है वही सत्य है। अंत में उत्तर कांड में "मानव "शब्द आया है। … जो हम सन्सार रूपी सूर्य की प्रचण्ड किरणों से दुखी मानवों विज्ञान भक्ति प्रदम तथा शिव कर्म रूपी फल प्राप्त कर लेते हैं, अतः यह रामचरितमानस रूपी वृक्ष का कल्याणकारी फल होकर सुन्दरकाण्ड तने की [साधनाकांड] है।

स्वामी तुलसीदास जी ने आठ सोपान में रामचरितमानस को लिखा है -बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड , उत्तररामायणकांड एवं लवकुश कांड हैं।

इसमें जो पंचम सोपान सुन्दरकांड तुलसीदास जी की रचित ऐसी अमूल्य निधि है जिसका वर्णन वाणी से करना संभव नही है। केवल भावपूर्ण भक्ति से सुनना , पढ़ना और इसका मनन करने से ही इस सुंदरता रूपी रास का आनंद ले सकते हैं.

भावमयी दृष्टि से देखने पर तो ये सातों सुरों से अलंकृत हैं , जो संगीतमय होकर नवधा भक्ति से ओत -प्रोत हैं. जितने भी भी उपमा एवं उपमये हैं इन सब से पर सुन्दरकाण्ड का जीवन में पदार्पण होता है.

जहां आनंद का समावेश व भक्ति रूपी गंगा का गुणगान हो वहां स्वतः सौंदर्य उत्कृष्ट पराकाष्ठा को पार कर जाते हैं, फिर हमें उनका वर्णन करना तो दुर्लभ ही जान पड़ता है, यह वैसे ही है जैसे जिसने उसे चखा है वही आनंद का अधिकारी बन सकता है।

ज्ञानियों में अग्रगण्य सम्पूर्ण गुणों के निधन वानरों के स्वामी श्री रघुनाथ जी के प्रिय भक्त पवनपुत्र अंजनी के लाल श्री हनुमान जी महाराज को कोटि कोटि नमन। अंजनी माँ हनुमान जी को सुन्दर भी कहती थी इसमें उनका वर्णन होने के कारन इसका नाम सुन्दरकाण्ड पड़ा।

इसकी शुरुआत ही मन भावना से हुई है , सुन्दर शब्द की अमर-व्याख्या सुधा बहुत आदरणीय व चित्त को द्रवित करने वाली है। इस कांड में एक भी ऐसा प्रसंग नहीं है जो अंतमन में आदर न उत्पन्न करे. भक्ति से बह रहे रंगों में हनुमान जी ही नज़र आते हैं।

सबको मस्तक नवा कर तथा ह्रदय में श्रीरघुनाथ को धारण कर हनुमान जी हर्षित होकर सीता माता [ भक्ति] की खोज करने जाते हैं।

सिंधु तीर एक भूधर सुंदर। कौतुक कूदि चढ़ेउ ता ऊपर॥
बार-बार रघुबीर सँभारी। तरकेउ पवनतनय बल भारी॥


समुद्र के तीर पर एक सुंदर पर्वत था। हनुमान खेल से ही (अनायास ही) कूदकर उसके ऊपर जा चढ़े और बार-बार रघुवीर का स्मरण करके अत्यंत बलवान हनुमान उस पर से बड़े वेग से उछले।

जलनिधि रघुपति दूत बिचारी। तैं मैनाक होहि श्रम हारी॥

समुद्र ने उन्हें रघुनाथ का दूत समझकर मैनाक पर्वत से कहा कि हे मैनाक! तू इनकी थकावट दूर करनेवाला है (अर्थात अपने ऊपर इन्हें विश्राम दे)।

दो० - हनूमान तेहि परसा कर पुनि कीन्ह प्रनाम।
राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम॥ 1॥

हनुमान ने उसे हाथ से छू दिया, फिर प्रणाम करके कहा - भाई! राम का काम किए बिना मुझे विश्राम कहाँ?॥ 1॥

समुन्द्र किनारे पहुँचते है समुंद्री राक्षसी और लंका में प्रवेश करते है लंकनी मिलती है , सभी बाधाओं को ऋद्धि- सिद्धि का प्रयोग कर हनुमान जी लंका में प्रवेश करते हैं।

छं० -
कनक कोटि बिचित्र मनि कृत सुंदरायतना घना।
चउहट्ट हट्ट सुबट्ट बीथीं चारु पुर बहु बिधि बना॥
गज बाजि खच्चर निकर पदचर रथ बरूथन्हि को गनै।
बहुरूप निसिचर जूथ अतिबल सेन बरनत नहिं बनै॥


विचित्र मणियों से जड़ा हुआ सोने का परकोटा है, उसके अंदर बहुत-से सुंदर-सुंदर घर हैं। चौराहे, बाजार, सुंदर मार्ग और गलियाँ हैं; सुंदर नगर बहुत प्रकार से सजा हुआ है। हाथी, घोड़े, खच्चरों के समूह तथा पैदल और रथों के समूहों को कौन गिन सकता है! अनेक रूपों के राक्षसों के दल हैं, उनकी अत्यंत बलवती सेना वर्णन करते नहीं बनती।

बन बाग उपबन बाटिका सर कूप बापीं सोहहीं।
नर नाग सुर गंधर्ब कन्या रूप मुनि मन मोहहीं॥
कहुँ माल देह बिसाल सैल समान अतिबल गर्जहीं।
नाना अखारेन्ह भिरहिं बहुबिधि एक एकन्ह तर्जहीं॥


वन, बाग, उपवन (बगीचे), फुलवाड़ी, तालाब, कुएँ और बावलियाँ सुशोभित हैं। मनुष्य, नाग, देवताओं और गंधर्वों की कन्याएँ अपने सौंदर्य से मुनियों के भी मन को मोहे लेती हैं। कहीं पर्वत के समान विशाल शरीरवाले बड़े ही बलवान मल्ल (पहलवान) गरज रहे हैं। वे अनेकों अखाड़ों में बहुत प्रकार से भिड़ते और एक-दूसरे को ललकारते हैं।

ऐसे वर्णातीत लंका में हनुमान जी की मित्रता विभीषण से होती है , वे हनुमान जी को माता सीता का पता बताते हैं। अशोक वाटिका में पहुँच कर वे देखते हैं की कपटी रावण सीता माता को अपनी पटरानी बनाने का प्रलोभन दते हुए साम -दंड-भेद नीति से उन्हें आतंकित कर रहा है.

स्याम सरोज दाम सम सुंदर। प्रभु भुज करि कर सम दसकंधर॥
सो भुज कंठ कि तव असि घोरा। सुनु सठ अस प्रवान पन मोरा॥

(सीता ने कहा -) हे दशग्रीव! प्रभु की भुजा जो श्याम कमल की माला के समान सुंदर और हाथी की सूँड़ के समान (पुष्ट तथा विशाल) है, या तो वह भुजा ही मेरे कंठ में पड़ेगी या तेरी भयानक तलवार ही। रे शठ! सुन, यही मेरा सच्चा प्रण है।

सीता व्याकुल होकर प्रभु श्रीराम को याद करती है , उसी समय हनुमान जी राम नाम अंकित मनोहर अंगूठी माता के सन्मुख डाल देते हैं।

तब देखी मुद्रिका मनोहर। राम नाम अंकित अति सुंदर॥
चकित चितव मुदरी पहिचानी। हरष बिषाद हृदयँ अकुलानी॥


तब उन्होंने राम-नाम से अंकित अत्यंत सुंदर एवं मनोहर अँगूठी देखी। अँगूठी को पहचानकर सीता आश्चर्यचकित होकर उसे देखने लगीं और हर्ष तथा विषाद से हृदय में अकुला उठीं।

सीता माता को संदेह होता है की कहीं यह माया का खेल तो नहीं है ? तब हनुमान जी अपना विशालकाय शरीर प्रगट करते हैं और माता को अपने राम भक्त होने का भरोसा दिलाते हैं।

सुनहु मातु मोहि अतिसय भूखा। लागि देखि सुंदर फल रूखा॥
सुनु सुत करहिं बिपिन रखवारी। परम सुभट रजनीचर भारी॥

हे माता! सुनो, सुंदर फलवाले वृक्षों को देखकर मुझे बड़ी ही भूख लग आई है। (सीता ने कहा -) हे बेटा! सुनो, बड़े भारी योद्धा राक्षस इस वन की रखवाली करते हैं।

हनुमान जी अशोक वाटिका के वृक्षों को उजाड़ देते हैं, और राक्षसों और रक्वालों को मसल देते हैं , तब मेघदूत उन्हें ब्रह्मपाश में बांध कर रावण के समीप ले जाते हैं रावण व हनुमान जी का प्रसंग बहुत ही मनोहारी है। जिसके लवलेश मात्र से ही महान बने हो , जिनके बल से ब्रह्मा, विष्णु, महेश सृष्टि का सृजन पालन और संहार करते हैं , में उन्हें राम जी का दूत हुँ. ऐसा परिचय केवल रामभक्त हनुमान जी ही दे सकते है.

ढोल नगाड़ों के बीच हनुमान जी ने सारी लंका जला दी केवल रामभक्त विभीषण का घर सुरक्षित रहा। छोटा रूप धर कर हनुमान जी जानकी जी के सन्मुख हाथ जोड़ कर खड़े हुए और और उनसे चूड़ामणि लेकर श्रीराम के पास पुनः वापस आते हैं।

सारा वृतांत सुन कर राम के नयन भर जाते हैं ,प्रभु उनको बार-बार उठाना चाहते हैं, परंतु प्रेम में डूबे हुए हनुमान को चरणों से उठना सुहाता नहीं। प्रभु का करकमल हनुमान के सिर पर है। उस स्थिति का स्मरण करके शिव प्रेममग्न हो गए।

सावधान मन करि पुनि संकर। लागे कहन कथा अति सुंदर॥
कपि उठाई प्रभु हृदयँ लगावा। कर गहि परम निकट बैठावा॥

फिर मन को सावधान करके शंकर अत्यंत सुंदर कथा कहने लगे - हनुमान को उठाकर प्रभु ने हृदय से लगाया और हाथ पकड़कर अत्यंत निकट बैठा लिया।

राम जी का आदेश मिलते ही वानर , भालू और रीछ की सेना विजय घोष करते हुए समुन्द्र तट पर आ उतरी। लंका में केवल एक दूत [अंगद] के आगमन से ही आतंक छा गाय. मंदोदरी का रावण से वार्तालाप कारन अत्यंत मर्मस्पर्शी है।

मुनि पुलत्स्य जी, मंत्री मलयवान , छोटे भाई विभीषण के अनुनय-विनय करने पर रावण क्रोधित होकर उन्हें राज्य से बाहर निकाल देता है।

विभीषण का श्रीराम से मिलाना होता है। जो सम्पत्ति रावण अपन दस शीश देने के बाद रावण को लंका स्वरुप मिली थी उसे करुणानिधान श्रीराम सहज ही विभीषण को दे देते हैं।

राम सेना का समुन्द्र पार करने का प्रसंग भी अत्यंत रोचक है। तीन दिन बीत जाने के बाद भी जब समुन्द्र के ऊपर वंदन करें का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है तब श्रीराम जी धनुष वाण उठा लेते हैं

लछिमन बान सरासन आनू। सोषौं बारिधि बिसिख कृसानु॥
सठ सन बिनय कुटिल सन प्रीति। सहज कृपन सन सुंदर नीति॥


हे लक्ष्मण! धनुष-बाण लाओ, मैं अग्निबाण से समुद्र को सोख डालूँ। मूर्ख से विनय, कुटिल के साथ प्रीति, स्वाभाविक ही कंजूस से सुंदर नीति (उदारता का उपदेश),

ममता में फँसे हुए मनुष्य से ज्ञान की कथा, अत्यंत लोभी से वैराग्य का वर्णन, क्रोधी से शम (शांति) की बात और कामी से भगवान की कथा, इनका वैसा ही फल होता है जैसा ऊसर में बीज बोने से होता है (अर्थात ऊसर में बीज बोने की भाँति यह सब व्यर्थ जाता है)।

तब समुन्द्र हाथ जोड़ कर प्रगट होते हैं और मर्यादा में रहते हैं ,नलनील ऋषि द्वारा प्रदत वरदान के कारण भारी भारी पत्थरों को रामनाम लिख कर समुन्द्र में तैरा कर पूल बांधते हैं। समस्त सेना प्रभु राम को अपने ह्रदय में धारण कर युद्ध की तैयारी करते हैं।

भगवान ने स्वयं कहा है की वे साधु -संतों , भक्तों का कल्याण करने व उन्हें संसार से तारने के लिए समय समय पर प्रगट होते हैं। पूर्ण शरणागत हनुमान नाम का आश्रय लेकर इतना जटिल और असंभव कार्य कर पाते हैं।

यह संसार रूपी रोग की औषधि है। श्री रघुनाथ जी गुणगान सम्पूर्ण संपूण सुन्दर मंगलों को देने वाला है। जो सुन्दर कण को आदर सहित पढेंगें, सुनेगें या मनन करेगें वे सहज ही अन्य साधनों के प्रयोग किये बिना ही भवसागर तर जायेंगें।

हनुमान जी सेतु का कार्य करते है , भक्तों व भगवान के मध्य यही सुन्दरकाण्ड का स्वतः सिद्ध सत्य है.

Monday, April 14, 2014

World's Biggest Art Contest By MJ Creative Cncepts


बाबा साहब डाॅ. भीम राव अम्बेडकर की 123वीं जयन्ती के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया


भारत रतन एवं शिल्पकार बाबा साहब डाॅ. भीम राव अम्बेडकर की 123वीं जयन्ती के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन संस्था के प्राधान कार्यालय मधु विहार, द्वारका के मनोरंजन केन्द्र, समाज कल्याण विभाग, दिल्ली सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डाॅ ओ.पी. ठाकुर ने बी.आर. अम्बेडकर जी की जीवनी के बारे में विस्तापूर्वक अपने विचारों प्रकट किया और उन्होंने कहा कि देश के नेता अपने स्वार्थ के लिए राजनीति करते है, वंचित समाज लिए नहीं क्योंकि आज भी देश के दलित समाज हाशिए पर है। कार्यक्रम का संचालन संस्था के महासचिव भाई भरत कुमार सिंह ने किया और बताया कि दलित समाज के सुखी संपन्न लोग दलितों का ही शोषण करते है और जहाँ उनको सत्ता का लाभ तथा सुख मिलता है वहां वंचित समाज को गिरवी रख देते है। आज जरूरत है बाबा साहब के विचारों और सिद्धातों पर चलने की। कार्यक्रम में उपस्थित वरिष्ठ नागरिक श्री सी.पी.श्रीवास्तव, भगवान दास गुप्ता, हरवंश कुमारी, अध्यापक विवेकानन्द वर्मा, डाॅ. अमरेन्द्र कुमार, ललीत पटेल, मालती गिरी, माधुरी गौतम एवं भारी संख्या में महिलाओं, बच्चों ने कार्यक्रम में बढ-चढ कर भाग लिया।

कामधेनु गौधाम ने प्रथम वार्षिकोत्सव मनाया


१३ अप्रेल को गाँव बिस्सर मेवात अकबरपुर स्थित कामधेनु गौधाम ने प्रथम वार्षिकोत्सव मनाया. श्री एस.पी. गुप्ता जी (सेवानिवृत प्रशासनिक अधिकारी) द्वारा संचालित उक्त गौधाम में वार्षिकोत्सव के सुअवसर पर महामंडेलश्वर प्रज्ञानंद जी महाराज व् प्रख्यात श्री मदभागवत वाचक आचार्य संजीव कृष्ण ठाकुर जी प्रमुख रूप से उपस्थित होकर कार्यक्रम की शोभा बढाई.


वार्षिकोत्सव समारोह की शुरुआत परंपरागत विधिवत हवन से हुई. श्लोकौचरण के उद्घोष गौपूजा व् दीप प्रज्ज्वलन के उपरांत उपस्थित अनेक वक्ताओं मा० डॉ वेद प्रताप वैदिक जी, मा० श्री फैज़ मोहम्मद खान, मा० श्री सुनील गौदास, मा० श्री रमेश काण्डपाल, मा० सुश्री डॉ मैत्रयी , सुश्री रेणुका शर्मा, ने अपने-अपने विचार व्यक्त किए. कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री सुरेश चौहान (चेयरमेन-सुदर्शन न्यूज़ चेनल) ने की. इस मौके पर कामधेनु गौधाम की प्रबंधक समिति के सदस्य तथा स्थानीय गणमान्य अतिथि भी उपस्थित थे. श्री एस.पी. गुप्ता जी ने द्वारका परिचय को बताया कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को गौमाता से प्राप्त उत्पादों तथा ओषधियों के बारे में बताया जाये जिससे समाज गौमाता के संरक्षण के प्रति जागरूक हो सके.

Musical evening in Dwarka on 19th April


Proud to be a voter - Ready to vote for better INDIA : 100% voting appeal


MUST VOTE FOR GOOD GOVERNANCE...
Like & Share more ideas-posters-info @FACEBOOK:
*************************************************************
***********************************************************
************************************************

Related popular posts

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Get more information

Thanks for your VISITs